スバス・チャンドラ・ボース復活 (The Resurrection of Subhas Chandra Bose)

実際の独立70周年の一年前、2016年8月12日のことでした。インド映画事務局とインド国防省が共同でインド映画祭の皮切りの映画として「ガンディー」を上映してインド独立70周年を祝いました。そして14日には「Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero」が上映されました。

August 12, 2016, one year before the 70th anniversary of Indian independence, Indian Film Bureau and The Ministry of Defence of India jointly celebrated the 70th anniversary. The first featured movie shown was “Gandhi,” and two days later, they played “Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero.”

Indian Independence Day

本当のインド独立70周年は、2017年8月15日なのに、何故一年前に70周年を祝ったのでしょうか?

Why did they celebrate one year earlier than the real 70th anniversary of August 15, 2017?

それは、2017年1月23日がスバス・チャンドラ・ボース生誕120周年だったことに関係しています。独立70周年をスバス・チャンドラ・ボース生誕祭の前に祝い、その後プロパガンダを流し続ければ、まだ国民の興奮が冷めきらないうちにスバス・チャンドラ・ボースの生誕祭に辿り着き、彼のイメージが効果的に民衆の間に焼き付くからです。

It is related to the fact that 5 months after that date was the 120th Birth anniversary of Subhas Chandra Bose. If they brought the Subhas Chandra Bose’s movie before his actual birthday, people will remember him fresh in their minds and the effect will be maximized.

独立70周年の少し前、同じ年の7月には「Subhas Chandra Bose: The Mystery」というテレビ映画が放送され、ヒットしました。

In July of 2016, a TV film, “Subhas Chandra Bose: The Mystery” was released and became very popular.

Subhas Chandra Bose: The Mystery

Saswati Sarkar et al. がラス・ビハリ・ボースを侮辱することでスバス・チャンドラ・ボースを誇大評価するサイトを揚げたり、ツイッターなどで忙しく活動したのも2016年です。

In 2016, Saswati Sarkar et al. were extremely active in posting blog entries overly praising Subhash Chandra Bose, and insulted Rash Behari Bose with various comments including unnecessarily high frequency of repetition of the term “Bose of Nakamuraya.”

つまり2016年は、2017年1月23日のスバス・チャンドラ・ボース生誕120周年に彼の名声を復活させるための準備期間の年だったのです。

It means that the year 2016 was the buffer year getting ready for the resurrection of Subhash Chandra Bose in 2017.

2016年のインド映画祭で上映されたスバス・チャンドラ・ボースを誇大評価する映画「Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero」は、2005年にインドで初上映されたものです。

The movie “Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero,” exaggerates Subhash to be a superhero. The film was screened retrospective on August 14th, 2016 at the Independence Day Film Festival commemorating 70th Indian Independence Day, jointly presented by the Indian Directorate of Film Festivals and Ministry of Defence.

Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero

2005年といえば、中島岳志がラス・ビハリ・ボースを貶めるような内容を含んだ本「中村屋のボース」を出版した年です。

In the same year as the movie “Netaji Subhas Chandra Bose: The Forgotten Hero,” was first released in 2005 in India, Nakajima Takeshi published “Bose of Nakamuraya” with the tone of condemnation on Rash Behari Bose.

中村屋のボース カバー

そして、インド独立を全面的援助したためにA級戦犯その他の汚名をつけられた日本人全員に無罪の判決を下したパル判事の顕彰碑が靖国神社に建てられたのも2005年でした。

And also in 2005, a plaque of Justice Radhabinod Pal was raised in Yasukuni Shrine. He was the only judge in the Tokyo tribunal amongst 11 “judges,” who gave not guilty verdicts to all the “war criminals” of Japan.

Judge Pal at Yasukuni Shrine

この3つが同じ年に起きるなんて、一般民衆は気が付かないけれど、結構先導されているのが分かりますよね。

It cannot be a coincidence that these closely related three individuals were brought to public attention at the same time. You should be able to see how we are manipulated.

2016年5月25日はラス・ビハリ・ボースの生誕130周年に当たるのですが、インドの人たちは彼を完全に忘れ、スバス・チャンドラ・ボースにだけ熱情をこめました。ラス・ビハリ・ボースになんて殆どの人が関心ないんですよね。

May 25, 2016 was the 130th birth anniversary of Rash Behari Bose, but nobody even talks about it.

纏めて言えば、2005年と2017年はスバス・チャンドラ・ボースが段階を経て復活した記念すべき年なのです。そして、ラス・ビハリ・ボースはスバス・チャンドラ・ボースの踏み台として利用されました。

In summary, years 2005 and 2015 are the years to be noted that Subhash Chandra Bose was brought to public attention deliberately. And Rash Behari Bose was only used as a stepping stool to praise Subhash Chandra Bose.

Subhash Chandra Bose 120th Birth Anniversary celebration in Nishikasai, Tokyo

2017年1月22日に在日インド人たちがスバス・チャンドラ・ボース生誕120年を祝いましたが、その前の日、1月21日がラス・ビハリ・ボースの73回忌であったに関わらず、黙祷を捧げるどころか73回忌について一言もなかったのは残念でした。

On January 22, 2017, Indian people residing in Japan got together to celebrate the 120th Birth Anniversary of Subhash Chandra Bose. It was only one day before this that was the 73rd death anniversary of Rash Behari Bose who was the greatest Indian who lived in Japan and died for Indian independence. They did not even give a moment of silence for his death anniversary, they did not even mention it.

このようなインド人の不可解な冷淡無関心さは、1945年の1月にも見られました。

This kind of ignorant coldheartedness amongst Indians was also seen on January 21, 1945, the date in which Rash Behari Bose passed away.

ラス・ビハリ・ボースがインド国民軍最高顧問であり、インド国民軍の生みの親であったにも関わらず、インド国民軍の兵隊と関係者は、ラス・ビハリ・ボースの死に完全に無関心だったのです。

Rash Behari Bose was then the Supreme Adviser of INA and also the founder of INA. Upon his passing, nobody of INA cared even the slightest.

1945年1月21日に空爆が続き次々と廃墟と化して行く東京で、飢えに苦しんでいる日本人の間で、只々インドを思いながらラス・ビハリ・ボースは悲壮な思いで亡くなりました。そんな彼の死を傷んだのはほんの一握りのインド人と大勢の日本人達でした。

Rash Behari Bose died on January 21, 1945, in Tokyo which was turning into a vast empty incinerated field day by day while Britain and America continuously dropped tonnes of bombs, and people were suffering massive starvation. He must have been feeling extremely sad noticing that his free India will not come true. People who were beside him were only one or two Indians and many Japanese.

ラス・ビハリ・ボースの葬式

その一方で、ラス・ビハリ・ボースが亡くなった頃、インド国民軍の兵隊とその関係者たちは出来るだけ豪華な食事を取り揃えるのに大忙しでした。そして翌日の1月22日にスバス・チャンドラ・ボースの誕生日を祝って盛大なパーティーを開き、歓喜を揚げたのです。日本ではラス・ビハリ・ボースの家族達やA.M.ナイルが悲しみにくれていた時のことでした。

The day Rash Behari Bose died, INA soldiers and related people were all busy preparing for the birthday celebration of Subhash Chandra Bose, getting ready food as luxurious as they could manage. One day later, they were ecstatic with the celebration. It was the very same day that Rash Behari Bose’s family and A.M. Nair were in extreme grief of their loss.

ラス・ビハリ・ボースが一日前に亡くなった事は新聞にも載っていたしスバス・チャンドラ・ボースに報告されていたのですから、なぜ彼とインド国民軍はこのような心無い振る舞いが出来たのか私には理解できません。冷血だとしか思えませんがあなたはどうですか?

The death of Rash Behari Bose was on every newspaper and also Subhash Chandra Bose and INA were notified of that. I cannot understand how they were so happy at the death of their supreme leader and hero of Indian Independence, Rash Behari Bose, especially in the light that their very lives owed him. Can you?

Subhas Chandra Bose

ガンディー (गान्धी – Gandhi)

ガンディーといえば、日本では「インド独立の父」として知られている人です。私も小学生の社会の授業で、ガンディーがいかに素晴らしい人物であったか、無抵抗・非暴力の信念を持てばいかに恐ろしい侵略者でも撃退できるのだと教わりました。

जापान में मोहनदास क. गान्धी भारतीय स्वतन्त्रता के पिता समझे जाते हैं। जब मैं बालविद्यार्थी थी तब मुझे बताया गया कि गान्धी कितने अद्भुत व्यक्ति थे और कोई भी जनता मात्र अहिंसा का अभिमानी बनकर बिना प्रतीकार केवल असहयोग आन्दोलन चलाकर आक्रमणकारियों को खदेड़ सकती हैं।

Mohandas K Gandhi is known as the father of Indian independence in Japan. When I was an elementary student, I was also told how magnificent Gandhi was, and that people could expel any evil invaders simply by not fighting back and not cooperating with them.

Police assaulting an Indian man with lathi. They would beat and kill because the man is unarmed and cannot fight back with a weapon. This is the legacy of British custom of how to treat peaceful public.

ガンディーの教えを単純に言えばこのようなことです。

गान्धी की शिक्षा को सरल उदाहरण से बताऊँ –

Let me simplify Gandhi’s teachings.

例えば、あなたの家に武装した強盗が入ってきた。あなたとあなたの家族を棍棒で打ち付け、女子供達を強姦しながら「オレに財産をすべてよこせ。それじゃなかったら拳銃でみなごろしにするぞ」と脅した。その時、賊に対して反抗するのは正しくない。だまって聞くだけで賊の言うなりにはせず、我慢に我慢を重ねれば、賊は降参してあなたの家から出ていくという考えです。そして、その間、賊が家族を殺そうとあなたを殺そうと、あなたが抵抗しなければ問題は起きないのだというのです。(日本の憲法9条信仰者がまさにこれです)

मान लीजिए कि हथियारबंद लुटेरे आपके घर में घुस आए। वे आपको और आपके परिवार को चिड़ी से  पीटते हैं, आपकी पत्नी और बच्चों के साथ बलात्कार करते हैं, और वे निर्लज्ज धमकी देते हैं, “मुझे अपना सब कुछ दे दो। नहीं तो मैं बंदूकों से तुम्हारी हत्या कर दूंगा।“ स्थिति से सम्हालने के लिए, हमलावरों पर पलटवार अपराध होगा। आप बस उनकी धमकीयों और बातों को सुनते जाएँ, किन्तु आपको जो करने के लिए कहा जाता है उसे करने से परिहार करें। यदि आप सर्वोच्च धैर्य रखें, तो लुटेरे शांति से आपका घर छोड़ देंगे। सर्वप्रथम, यदि आप अपने परिवार पर किए अत्याचार को अनदेखा करें, और सुनिश्चित करें कि आप प्रतीकार न करें, तो आपपर कोई अकर्म या विकर्म का आरोप नहीं पड़ेगा। (जापानी संविधान के अनुच्छेद ९ के विश्वासियों के कथन से यह नैतिक तर्क मिलता-जुलता है।)

Suppose armed robbers broke into your house. They beat you and your family with clubs, raping your wife and children, and they retort, “Give me everything you have. Otherwise, I will murder you all with our guns.” In order to manage the situation well, it is wrong to fight back against the assailants. You just listen to what they say, but resist from doing what you are told to do. If you exercise the at most patience, the robbers will give up and leave your home in peace. Above all, if you ignore whatever they do to your family, and make sure that you do not fight back, nothing wrong will come to you. (It sounds very much like what the Article 9 believers of the Japanese constitution say.)

Killing the victims is the ultimate intention of armed robbers

結果はどうなるか一目瞭然ですよね。完全武装した賊が、あなたとあなたの家族を暴力でいためつけ、強姦しほうだいにします。あなたが「私は暴力はきらいだから抵抗しません」と言っても、あなたとあなたの家族を皆殺しにしてあなたの財産を奪い去ることは当然ではありませんか?

आप जानते होंगे इसका परिणाम। हथियारबंद लुटेरे जी भरकर आपके परिवार को लुण्ठित, आहत, और शोषित छोड़कर ही निकलेंगे। आप जितना भी कहते रहें कि “मैं प्रतिरोध नहीं करूँगा क्योंकि मुझे हिंसा से घृणा है”, क्या यह स्पष्ट नहीं है कि लुटेरे आपको और आपके परिजनों को मारकर आपका सर्वस्व छीन लेंगे?

You know what would happen. The armed robbers would steal, violate and rape you and your family as much as they desire.
No matter how you may say, ” I do not resist because I hate violence,” isn’t it obvious that the robbers will murder you and your family and steal everything you ever owned?

それなのに、それをインドの民衆に説得するモハンダス・K・ガンディーのことになると、なぜか、非協力・非暴力主義が残酷な侵略者を撃退するのに有効な手段だと繰り返し、そして信じてしまうのだから不思議です。

जबकि यह इतना स्फुट ज्ञान है, तो यह आश्चर्यजनक बात है कि मोहनदास क. गान्धी का अहिंसावाद और असहयोगवाद को प्रशस्त बताकर भारतीय जनता में इसका प्रचार होता रहता है।

When it is so obvious, it is surprising that the non-coorperation and non-violence stance of Mohandas K Gandhi can be praiseworthy and preached to the Indian public.

こんな嘘を信じてしまうなんて、人間は愚かな生き物ですね。インドが、ポルトガル人、フランス人、オランダ人、イギリス人に植民地(文化が遅れていたので白人に支配してもらわなければならなかった所)などという恥ずかしい汚名をきせられて、気の遠くなるほど多くの人達が虐殺されたのは、インド人があまりにも優しく非暴力的だったったからなのですが。

दीन हैं वे मानव जो ऐसे बहकावे में आ जाते हैं। पुर्तगाली, फ़्रांसीसी, डच और ब्रिटिश से आक्रान्त होकर उन सभी से सांस्कृतिक पिछड़ेपन की गाली खाकर निन्दित होने का मूल कारण ही भारतवासियों का मृदु स्वभाव और अहिंसावाद था।

Humans are indeed pathetic to be influenced by this kind of deception. The very reason that India was colonized by the Portuguese, French, Dutch and British, and Indians were belittled as people of a backward culture, is because Indians were so gentle and non-violent.

Richard Attenborough

1982年にイギリス人のリチャード・アテンボローという監督がイギリス人のベン・キンズレーをガンディーの役にして「ガンディー」という映画をアメリカのコロンビア映画で作成しました。インドではその年の11月30日に、イギリスでは12月3日に、アメリカでは12月10日に初上映されました。この映画はアカデミー賞等の数々の賞を受賞し、世界中を風靡しました。

१९८२ में ब्रिटिश निर्देशक रिचर्ड अटनबरा ने “गान्धी” नामक चलचित्र बनायी, जिसमें बेन किंग्सली ने गान्धी की मुख्य भूमिका निभाई। अमेरिकीय चलचित्र संकाय कोलम्बिया पिक्चर्स इसके सम्पादक थे।

In 1982, the British director Richard Attenborough made the movie “Gandhi,” with Ben Kingsley acting as the main character, Gandhi. It was produced by the American movie company, Columbia Pictures.

この映画は、インド独立70周年を記念して、2016年8月12日に、インドでインド独立記念日に向けて、インド映画事務局とインド国防省が共同でインド映画祭の皮切りの映画として上映されました。

७०वें जयन्ती के एक वर्ष पूर्व , १२ अगस्त २०१६ को भारतीय चलचित्र कार्यालय और भारतीय रक्षा मन्त्रालय इस फ़िल्म के पुनःप्रसारण का संयुक्त प्रायोजक रहे।

This movie was played on August 12, 2016, one year before the 70th anniversary of Indian independence by the Indian Film Bureau and The Ministry of Defence of India jointly celebrating the 70th anniversary.

Film Gandhi was starred by Ben Kingsley

カナダでも1982年から盛んにガンディーの映画が上映されました。私も1983年には何度も映画館に行って、その映画を見ては感動していました。なにせ、幼い頃から周りの人達もガンディーを褒め称え、学校でもそのように教えていたものでしたから、ガンディーは超人的な人類の指導者だと思っていました。

१९८२ से यह चलचित्र “गान्धी” लगातार प्रसारित किया जा रहा है। मैं भी अनेक बार चलचित्रशाला गई और प्रशंसामय आँखों से देख आई। मैं इस धारणा में लीन थी कि गान्धी मानो अतिमानवीय युगपुरुष थे। मेरे आसपास के लोग उनकी प्रशंसा करते थे और विद्यालय में यही बात औपचारिक रूप से पढ़ाया जाता था। मुझे इस बारे में कोई सन्देह नहीं थी कि वह मानव जाति के महान और सर्वोच्च नेता हैं।

The movie “Gandhi” has been shown since 1982. I also went to movie theatres numerous times, watching the movie with a positive impression. After all, I was conditioned to think that Gandhi was an almost superhuman being. People around me were praising him and I was taught at school as such. I had no doubt about that he was a noble and supreme leader of mankind.

今のわたしの考えはどうかといいますと、ガンディーは確かに偉大な人だったと思います。でも、宗教家としてとか、インド独立の父として崇めるのは間違っていると思います。ガンディー自身が書いた自叙伝でも、自分が宗教家だともマハトマだとも言った覚えがない、人が勝手に言っているのだと書いているし、自分がインド独立の父だとは全然思っていなかったでしょう。なんといったって何をしたか一番良く知っているのは自分ですからね。つまり、彼を神格化してマハトマ・ガンディーと呼んでいるのは彼を利用しようとしている誰かなのでしょう。

अब मैं उनके बारे में क्या सोचती हूँ? मैं सहमत हूँ कि वह वास्तव में एक महान व्यक्ति थे। किन्तु, मुझे लगता है कि धर्म के आधार पर उनका आकलन करना और उन्हें स्वतंत्रता के पिता के रूप में सम्मान देना भ्रम है। गांधी द्वारा लिखी गई एक आत्मकथा में कहा गया है कि उन्होंने कभी खुद को धार्मिक नेता नहीं कहा और न ही उन्होंने उपसर्ग महात्मा के साथ खुद को सम्बोधित किया। लोग उन्हें ऐसा कहते हैं, लेकिन उन्होंने कभी खुद को ऐसा नहीं माना। आखिरकार, वह एक आर्जव सच्चे व्यक्ति थे और वह जानते थे कि उन्होंने जो किया है, वह किसी और की तुलना में बहुत अधिक है। इसलिए, जो लोग गांधी को देव-सरीखा बता रहे हैं, और जो उन्हें महात्मा गांधी कहते हैं वे लोग हैं जो उन्हें अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए उपयोग करने का प्रयास कर रहे हैं।

What do I think of him now? I agree that he indeed was a great man. But, I think it is wrong to assess him on the basis of religion, and to respect him as the father of Independence. An autobiography written by Gandhi himself states that he never once called himself a religious leader, nor did he refer to himself with the prefix Mahatma. People call him as such, but he never considered himself to be so. After all, he was an honest man and he knew exactly what he had done, much more so than anybody else. So, people who are deifying Gandhi, and who call him Mahatma Gandhi, are the ones who are trying to use him for their personal gain.

ガンディーはあの時代を、イギリスに忠誠を誓ったイギリスのインド系法律家として、インド民衆に振り回されることなく、立派に自己の信念を貫きました。それが彼の立派なところなのです。ガンディーは英領インド帝国の法律家でしかないのです。

गांधी उस उथल-पुथल की घड़ी में खुद के प्रति सच्चे रहे, अपने विश्वासों के प्रति श्रद्धावान, किसी भी बाहरी प्रभाव से अभिभूत नहीं थे, जिसमें करोड़ों की भारतीय जनता भी शामिल थी, क्योंकि गान्धी एक महान ब्रिटिश-भारतीय अधिवक्ता थे जिन्होंने ब्रिटन के प्रति निष्ठा का वचन दिया था। यही वह बिन्दु थी जहाँ उनका सम्मान और मूल्य था। वह ब्रिटिश भारत के सच्चे देशभक्त अधिवक्ता थे।

Gandhi lived true to himself in those years of turmoil, faithful to his own convictions, not being swayed by any external force, including the massive Indian public, as a noble British Indian lawyer who pledged allegiance to Britain. That was where his honourable value lay. He was a true patriotic lawyer of British India.

British Lawyer M.K. Gandhi, 1909

彼がイギリスに忠誠を誓い、どんなに多くのインド人が苦しみ殺されていっても、冷血にそれを全うしたことはそれはそれなりに立派だとは思いませんか?それに、ガンディーを慕った数しれないインド人の心を一つにまとめたのはそれな超人的実力と言うよりしかたありません。

क्या आप इस बात से अचम्भित नहीं कि ब्रिटन के प्रति उनकी निष्ठा इतनी अडिग थी कि उसके अन्तर्गत बहाए गए भारतीय लहू की कोई मात्रा उसे भारत के पक्ष में विद्रोह की ओर नहीं खींच पाई? वह इतने चमत्कारी थे कि उन्होंने बड़ी संख्या में दीन भारतीयों को आकर्षित किया और उन्हें एक छोर ले गए। वह वास्तव में उनकी अलौकिक शक्ति थी।

Aren’t you marvelled that his loyalty to Britain was so unyielding that no amount of Indian blood that was shed could draw him towards India? He was so charismatic that he attracted huge numbers of Indians and he drove them to one direction. That indeed was his superhuman power.

その一方で、1948年1月31日にガンディーを暗殺したナトラム・ゴドセの真実も真剣に考慮に入れるべきだと思いました。彼は自分のためではなく、インドの行く末を思って暗殺を企てたのですからね。ガンディーは、インド人の将来は宗主国であるイギリスとは切り離せないものであると信じていたので、イギリス帝国の行く末を一番大切に思っていました。

इसी समय, मैंने सोचा कि मुझे ३१ जनवरी १९४८ को गांधी की हत्या करने वाले नाथुराम गोडसे की सच्चाई पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्होंने गांधी की हत्या अपने लिए नहीं, अपितु भारत के लोगों के लिए की। दूसरे छोर पर, गांधी की अन्तिम चिन्ता ब्रिटिश साम्राज्य का भविष्य था, जिसके आधिपत्य से भारतीय लोगों का भविष्य आकस्मिक रूप से उलझा हुआ था।

At the same time, I thought I must consider the truth of Nathuram Godse who assassinated Gandhi on January 31, 1948. He said that he killed Gandhi not for himself, but for the people of India. Interestingly enough, the ultimate concern of Gandhi was the future of the British Empire, with whose domination the future of the Indian people was incidentally intertwined.

ですから、白人のイギリス帝国が好きで白人にひれ伏すならガンディー、古代から続く伝統的インドが好きならゴドセ。簡単なことだと思います。どちらを選んでも悪いことでは無いのです。個人的価値観の違いです。

इसलिए, यदि आप ब्रिटिश साम्राज्य या वैश्विक आंग्ला आधिपत्य को महत्व देते हैं, और आप गोरों के दास बनना चाहते हैं, तो आप गांधी के पक्ष में होंगे। यदि आप पारंपरिक भारत को प्राथमिकता देते हैं, तो गोडसे आपके अभीष्ट होंगे। यह आपकी स्वतंत्रता है कि आप दोनों में से किसे चुनें। यह चयन निजी चाहत और वरण का है।

So, simply put, if you value the British Empire and would like to be a slave to Whites, you are on Gandhi’s side. If you value traditional India, then Godse must be your choice. It is your freedom to pick which one of the two. It is a matter of choice and one’s liking.

ラス・ビハリ・ボースは(個人的な手紙等ではガンジーの考えに批判的でしたが)ガンディーの悪口を決して公言しませんでした。それは、インド民衆の過半数がガンディーを支持していたからです。彼は(様々な手紙や著書に読み取れるように)インド人の心を纏めることが最重要だと思っていました。ボースはインドがイギリスから完全に独立することを望んでいましたが、ガンディーはあくまでもインドをイギリスの属国として位置づけることを望んでいました。イギリスの弁護士ですから当たり前のことです。

रास बिहारी बोस ने कभी खुलकर गांधी की आलोचना नहीं की (अपितु आपसी पत्राचार में उन्होंने लिखा है कि गान्धी की विचारधारा हास्यास्पद है)। ऐसा इसलिए था क्योंकि भारतीय जनता का बहुमत गांधी का समर्थक था। बोस का अत्यधिक महत्व भारतीय जनता के मनोबल को एकजुट रखना था (यह कारण भी पत्रों में लिखित है)। रास बिहारी बोस चाहते थे कि भारत ब्रिटेन से पूरी तरह स्वतंत्र हो जाए। परन्तु, गांधी, जिनकी अधिकांश भारतीय जनता प्रशंसा करते हैं, अनुमुदित थे कि भारत सदा ब्रिटेन के अधीन रहे और प्रगति करे। इस तथ्य से बचा नहीं जा सकता, क्योंकि आखिरकार, गांधी एक ब्रिटिश अधिवक्ता थे।

Rash Behari Bose never once criticized Gandhi in public (albeit in his correspondence he considers Gandhi’s ideology to be ludicrous). This was because the majority of the Indian public was supportive of Gandhi. Bose’s utmost importance was to put the minds of the Indian public together (this is also found written in his letters). Rash Behari Bose wanted India to become completely independent of Britain. But, Gandhi, who the majority of theIndian public praise, wanted India to forever remain under Britain. That could not be avoided because after all, Gandhi was a British lawyer.

そして、インド人の大半がガンディーを崇め、インドがイギリスの属国に留まることを望んでいたのですから、ラス・ビハリ・ボースに勝ち目がないのは当然でしたね。

इसका सारांश – अधिकांश भारतीय जनता ने गांधी की पूजा की, जो वास्तव में ब्रिटिश साम्राज्य के सच्चे निष्ठावान् थे। इसलिए, इस बात की कोई संभावना नहीं थी कि भारत का पूर्ण स्वराज को लेकर रास बिहारी बोस का सपना सच हो सके। शायद बोस यह जानते थे।

To summarize this. The majority of the Indian public worshiped Gandhi, who was the in fact a true loyalist of the British Empire. Therefore, there was absolutely no chance that Rash Behari Bose’s dream of achieving India’s complete independence could come true. Perhaps, Bose knew this.

Learning Module

桎梏のインド (बन्धन में भारत – India in Bondage)

1933年にラス・ビハリ・ボースは田中宗男と一緒に『桎梏の印度』という本を出版しています。イギリス生まれのアメリカ人、ジャベズ・T・サンダーランドが1929年に出版した『India in Bondage – Her Right to Freedom and a place among the great nations』の翻訳本です。

१९३३ में रास बिहारी बोस ने “शिक्कोकु नो इन्दो” प्रकाशित किया था, जिसमें तनाका मुनेओ सह-अनुवादक थे। जाबेज़ टी. सण्डरलैंड की १९२९ की कृति “इण्डिया इन बॉण्डेज –हर राइट टू फ़्रीडम एण्ड प्लेस अमंग द ग्रेट नेशंस (बन्धन में भारत – स्वतंत्रता पर इनका अधिकार और महान राष्ट्रों में इनका स्थान)” का यह अनुवाद था।

Rash Behari Bose published “Shikkoku no Indo” in 1933 with Tanaka Muneo as co-translator. This is a translation of the book by Jabez T. Sunderland, “India in Bondage – Her Right to Freedom and a place among the great nations” (1929).

原本は英語で出版されたもので、リンクを貼っておきましたから、英語が読める人はどうぞご覧になってください。PDFダウンロードも可能になっていますから、タブレットのブックなどに保存すれば読みやすくなります。

मूल कृति आंग्लभाषा में छपी। मैं आपको इस कृति का प्रालग (लिंक) उपलब्ध करवा रही हूँ। यदि आप आंग्ला से परिचित हैं तो अवश्य पढ़ें। इस जालस्थान से आप इसकी पी.डी.एफ़. प्रति अवारोपित कर सकते हैं। अपने आईपेड या पृथुहर (पृथु दूरभाष / स्मार्टफ़ोन) के पुस्तक अनुप्रयोग पर सहेजकर आप यथासमय पढ़ सकते हैं।

The original book was published in English. I am providing you with a link to this work. Please read it if you are comfortable reading English. From this site, you can download a PDF copy of the text. If you save it in the Book application on your iPad or smartphone,  you can read it at your convenience.

ラス・ビハリ・ボースがこの本を翻訳した意図は、イギリス生まれのアメリカ人でさえ良心に反して受け入れられなかった程残酷な、イギリスのインドに対する植民地政策の実態を日本人に知ってもらうためでした。この本はアメリカで出版されたものの、インドでは出版禁止になっていました。ですから、インドの実情を知っていたのはアメリカと日本ということになります。

इस पुस्तक का अनुवाद करने में रास बिहारी बोस का मुख्य उद्देश्य यह था कि उषापुत्र भारत में ब्रिटिश की दमनकारी अधिग्रहण की सच्चाई जान लें। भारत की गम्भीर अवस्था समझाने में यह पुस्तक सफल साधन रहा क्योंकि इसके लेखक ब्रिटिश-अमेरिकीय थे, और यद्यपि गोरे ब्रिटिश-अमेरिकीय होने के कारण उनके अपने निजी झुकाव और पूर्वधारणाएँ थीं, फिर भी वे मनुष्य होने के सत्त्व से ऐसे भयंकर अत्याचार सह नहीं सके। यह पुस्तक अमेरिका में छपा पर भारत में प्रतिबन्धित किया गया। सो उस समय केवल अमेरिकीय और जापानी लोग भारत में ब्रिटिश अधिग्रहण का भयानक सच जानने लगे।

The main purpose of Rash Behari Bose translating this book was that he wanted the Japanese people to understand the truth of the British colonization of India. The book effectively made readers understand the dire situation of India, as the author was British American, and despite his biases as a white British American, as a human being, he could not tolerate such atrocities. The book was published in America, but was banned in India. So, at that time, only Americans and Japanese knew the terrifying reality of the British colonization of India.

日本では殆どの人が字が読め、古くから本を読んだり読んでもらったりする伝統がありました。ですから国民の殆どがインドの悲惨なイギリス植民地政策を把握していたのは世界中で唯一日本だけだったというのが本当の所です。

उस समय जापान में लगभग सारे लोग साक्षर थे और साथ ही साथ परस्पर पठन-पाठन और ज्ञान बाँटने की प्रथा भी तगड़ी थी। अतः, जगभर में केवल उषाद्वीप ही वह अकेली जगह थी जहाँ पर भारत की जुगुप्सास्पद स्थिति की समझ व्याप्त हो चुकी थी।

At that time, almost everybody in Japan could read, and furthermore, the Japanese had a tradition of reading books to each other and sharing information. In reality, across the world it was only the Japanese who truly understood the gruesome reality of India.

ラス・ビハリ・ボースと田邊宗男の翻訳本『桎梏の印度』は、国立国会図書館内で読むことが出来ます。

यदि आप रास बिहारी बोस के “सिक्कोकु नो इन्दो” पढ़ना चाहते हैं तो वह केवल तोक्यो के राष्ट्रिय दायित्त ग्रन्थालय में उपलब्ध है।

If you want to read Rash Behari Bose’s “Shikkoku no Indo,” you are only able to read it inside the National Diet Library building in Tokyo.

桎梏のインド

1933年、『桎梏の印度』が発行されるとすぐにラス・ビハリ・ボースは水戸市に行って当時存在した旧制水戸高等学校に寄贈しました。旧制水戸高等学校は明治維新前に欧米による日本侵略に立ち向かうことを意図して創立された日本一の藩校、弘道館を引継いで出来た学校でした。

१९३३ में जब रास बिहारी बोस ने “शिक्कोकु नो इन्दो” प्रकाशित किया तब उन्होंने तुरन्त मीतो नगर जाकर वहाँ तात्कालिक स्थित क्यूसेई मीतो कोतोगक्को संस्था को एक प्रति प्रदान किया। इस विद्यालय के पुरस्सर प्रणेता कोदोकान (धनुर्विद्या गुरुकुल या अखाड़ा) था, अस्तित्व में आने वाला सबसे बड़ा हानको (प्रत्येक प्रान्त का टकसाली गुरुकुल), जिसे इस उद्देश्य से अनुष्ठित किया गया कि उषापुत्रों को हर ऐसे विषय की जानकारी मिलें जिससे कि वे पाश्चात्य आक्रान्ताओं से अपनी रक्षा कर सकें।

In 1933, as soon as Rash Behari Bose published “Shikkoku no Indo,” he went to Mito City and donated a copy to the then existing Kyūsei Mito Kōtōgakkō. This school’s precursor was Kōdōkan, the largest Hankō that existed, and which was established for the purpose of educating the Japanese with every possible subject needed to defend Japan from Western invaders.

弘道館は最後の将軍徳川慶喜の父である徳川斉昭によって創られました。唯一の日本史である「大日本史」1864年から1906年にかけて水戸で編纂されました。それを中心とした一連の学問を水戸学といいます。その水戸学を基本にしていたのが弘道館の教えでした。

कोदोकान के संस्थापक तोकुगावा नारियाकी थे, अन्तिम शोगन (सैन्य अधिपति) तोकुगावा योशिनोबु के पिता। कोदोकान शिक्षा का सत्त्व था मीतो-गाकु (उषाद्वीपीय इतिहासकारी, राजकीय और सासंकृतिक संरक्षण और शिन्दो-धार्मिक विद्या), जोकि दाई-निहोन-शी नामक उषाद्वीपी इतिहास विश्वकोश से आरम्भ होता है, जो जापान का पहला और एकमात्र ऐसा इतिहास है जो उषापुत्रों द्वारा उषापुत्रों के लिए लिखा गया हो। इस ग्रन्थावलि का सम्पादन १८६४ से १९०६ के अवधि में सम्पन्न हुआ।

Kōdokan was founded by Tokugawa Nariaki, the father of last Shōgun, Tokugawa Yoshinobu. The core of Kōdokan’s teachings was Mito-gaku, which started with the compilation of Japanese history, Dai-nihon-shi, which was the first and only history of Japan written by the Japanese for the Japanese. The compilation of this text took place between 1864 and 1906.

大日本史

水戸学は、戦後イギリスやアメリカを始め白人崇拝者たちから「国粋主義」というラベルを貼られ、ナチズムとなぞらえて悪名をつけられています。しかし、日本の古典文学が一般に知られるようになったのはこの水戸学が果たした大きな貢献の一つなのです。

ब्रिटन और अमेरिका ने मीतो-गाकु को कुख्यात किया है, और उसे जर्मनी के नात्सी-वाद या अति-राष्ट्रवाद से जोड़ दिया है, किन्तु वास्तव में यह जापानी इतिहास का सैद्धान्तिक और शैक्षणिक अध्ययन-मात्र है। मीतो-गाकु के महत्त्वपूर्ण योगदानों में से एक यह है कि इस ग्रन्थावलि ने शास्त्रीय जापानी वाङ्मय को आम लोगों के लिए अभिगम्य और सरल बनाया।

Britain and America gave Mito-gaku a bad reputation, relating it to Nazism or ultra nationalism, but in reality it is only an academic study of Japanese history. One of the most important contributions made by the scholars of Mito-gaku was that this text made classical Japanese literature easily accessible and comprehensible to the public.

イギリスやアメリカの大学の日本語科では、日本語がろくに話すことも読むことも出来ない2年生のうちから日本の古文と漢文を教え始めます。日本では日本古典文学の価値を軽視するのに比べて、欧米では日本古典文学研究が重視されとても盛んです。それなのに、それを可能にした水戸学を貶めるのです。矛盾ではありませんか?欧米には日本古典文学の専門家が溢れています。そして、英語で論議を展開して、日本人が入りこむ隙間はありません。

ब्रिटन और उत्तर अमेरिका के विश्विद्यालयों के उषाद्वीप-अध्ययन पाठ्यक्रम में कोबुन और कानबुन (शास्त्रीय उषाद्वीपी) को दूसरे वर्ष में ही सिखाना आरम्भ करते हैं, जब छात्रों को जापानी भाषा पढ़ने, लिखने और बोलने में पर्याप्त कुशलता भी नहीं होती। इस तथ्य के व्यतिरेक में कि आधुनिक जापान में शास्त्रीय साहित्य अध्ययन को युवा पीढ़ी मान्यता नहीं देती, पाश्चात्य देशों में जापानी शास्त्रीय वाङ्मय का अध्ययन गर्म चल रहा है। शास्त्रीय उषाद्वीपी साहित्य आज हम से अभिगम्य इसलिए हैं कि मीतो-गाकु ने उसे पढ़ने योग्य बनाया है। फिर भी पाश्चात्य बुद्धिजीवी मीतो-गाकु की निन्दा करते हैं। क्या यह तर्कहीन नहीं ? उषाद्वीपी शास्त्रीय वाङ्मय के क्षेत्र में कई ब्रिटिश और अमेरिकीय विद्वान् हैं। वे अपने शोधकार्य और संवाद केवल आंग्ला में चलाते हैं, और आंग्ला बोली में अप्रवीण जापानी विद्वानों के लिये कोई जगह नहीं रखते।

Japanese studies courses at universities in Britain and North America begin teaching Kobun and Kanbun (Classical Japanese) starting from the 2nd year, when students cannot yet even read, write or speak Japanese sufficiently. In contrast to the fact that in modern times, young Japanese people in Japan do not value studying Classical Japanese, the studies of classical Japanese literature is very active in the West. The reason why we have access to Japanese classical literature is because Mito-gaku made them readable. And yet, the West criticizes Mito-gaku. Is this not illogical? In the field of Japanese classical literature, there are many British and American scholars. They carry out their research and discussions all in English, and there is no room for Japanese scholars who are not proficient in English.

これは、インドと酷似していませんか?

क्या अब भारतीय इतिहास और वाङ्मय के शैक्षणिक अध्ययन क्षेत्र की स्थिति से इसकी समानताएँ समझ में आ रही है आपको ?

Now, do you see the similarities with what has been happening in the field of Indian literary studies?

インドの言葉もろくに話せないインド文化を侮辱する人たちが、サンスクリット語の専門家になります。その人たちはインドの若者がサンスクリットの勉強をしたりインド古典文学の研究をするのを妨害しています。インド人の研究を邪魔した上で、サンスクリット語のメッカはドイツ、イギリスなのだということを世界中にプロパガンダで流しています。そして、インド人はサンスクリットが読めず、欧米人の専門家だけがインド古典文学に詳しいと言い続けます。そして、インド古典研究は英語で展開します。そんな状態ですから、インド人の古典文学研究者は、地位も名誉も低いまま、インド人の間でひっそり続けるしかありません。

जो अध्येता किसी भी भारतीय भाषा को ठीक से बोल नहीं पाते और जो भारतीय संस्कृति का अपमान करते फिरते हैं, वे “संस्कृत-पण्डित” बनते हैं। ये लोग भारतीय युवाओं को संस्कृत और भारतीय शास्त्रीय वाङ्मय पढ़ने से रोकते हैं। पाश्चात्य इस वैश्विक कुप्रचार में निरत है कि संस्कृत शोघकार्य का केन्द्र जर्मनी या ब्रिटन है। यह भी दोहराते हैं कि भारतीय लोग अब संस्कृत से अनभिज्ञ हैं और केवल पाश्चात्य के संस्कृत-पण्डित भारतीय शास्त्रीय वाङ्मय का वस्तुनिष्ठ साम्प्रदायवाद-मुक्त परिभाषा देने में समर्थ हैं।

Those who cannot even speak any Indian language properly, and who insult Indian culture, become “Sanskritists.” These people hinder Indian youths from studying Sanskrit or Indian classical literature. The West spreads propaganda worldwide, saying that the centre of Sanskrit studies is Germany or Britain. They also repeat that Indians cannot read Sanskrit, and that only Sanskritists in the West are knowledgeable about Indian classical literature.

そういった流れです。つまり、インド人が欧米史観を捨て、インドの真相を知ったなら、それは、日本の真相を理解したと同じことなのです。(日本は、中国と朝鮮は全く異なります。よく、インド人は日本と支那朝鮮を一緒にする傾向があるので気をつけてください。日本はインドに似ているのですよ。支那朝鮮は随分前から実質的にイギリスの植民地です。)

क्या आप भारतीयों और जापानीयों पर ब्रिटिश और अमेरिकीय द्वारा चलाए गए हथकण्डों की तुलना कर सकते हैं ? भारत के साथ क्या हुआ – यदि इसकी सच्ची समझ तक पहुँचोगे तो जापान का वृत्तान्त भी समझ आएगा, और विलोमतः। (उषाद्वीप वस्तुतः चीन और कोर्या से सर्वथा भिन्न है, किन्तु कई भारतीय जापान को उन दोनो से अनुपृक्त करते हैं। कृपया इस बात पर अधिक ध्यान दें। जापान का भारत से कई अधिक समानता है। चीन और कोर्या व्यावहारिक रूप से लंबे समय से आंग्लों के उपनिवेश रहे हैं।)

Can you compare the similarities in how Indians and Japanese have been manipulated by British and Americans? If you really understand what happened to India, you will know what happened to Japan, and vice versa. (Japan is completely different from China and Korea, although many Indians seem to confuse China and Korea with Japan. Please pay extra caution to this point. Japan is far more similar to India. China and Korea have practically been British colonies for a very long time.)

水戸空襲 ビラ

さて、「桎梏のインド」に戻りましょう。1945年8月2日に水戸はイギリスとアメリカの無差別空爆を受けてほぼ全焼しました。その時に弘道館も旧制水戸高等学校(水高)も殆ど焼けてしまいました。水校の図書館も焼けて無くなりました。そんな中で、水校の生徒達はバケツリレーで消火に励み、リュックで本を近所の蔵に運んで命がけで守ったのです。その中に署名入りのラス・ビハリ・ボースの本が4冊入っていました。ラス・ビハリ・ボースの本に水のシミがあるのも、当時の水高生の努力を思うと、痛く心が動かされます。

आइये रास बिहारी बोस रचित शिक्कोकु नो इन्दो पर लौट आते हैं। २ अगस्त १९४५ को ब्रिटिश और अमेरिकीय विमान कट-बमबारी ने मीतो नगर को लगभग पूरी तरह भस्म कर चुका था। उस समय, क्यूसेई मीतो कोतोगक्को और कोदोकान लगभग पूरी तरह से ध्वस्त होकर राख हो चुके थे। सहज बात है कि मीतो कोतोगक्को का ग्रन्थालय भी जलकर शून्य हो गया था। जब विद्यालय आग की लपेटों में अदृश्य होता जा रहा था, तब छात्रों ने बड़े जतन से अनगिनत बाल्टियों में पानी भर-भरकर बुझाने का प्रयास किया। साथ-साथ, वे ग्रन्थों को अपने बस्तों और बोरियों में घुसा लुकाकर समीप कुछ धनिक परिवारों के भण्डार-घरों तक पहुँचाया, जिनके प्रगाढ भित्तियाँ थीं। इन बहुमूल पुस्तकों को बचाने के लिए उन्होंने अपने प्राण दाँव पर लगाए। उन बचे पुस्तकों में रास बिहारी बोस के चार पुस्तक भी थे, उनके निजी हस्ताक्षर सहित। ऊपर शिक्कोकु नो इन्दो के चित्र को कृपया देखें। उसपर पानी के धब्बे दिखाई देते हैं। पहली बार जब मैंने इसे देखा, तो भावुक हो गई। बोस के निजी हस्ताक्षर से अलंकृत पुस्तक पर पानी के कलंक ने मुझे गहरी कहानियाँ सुनाईं।

Let us now return to Shikkoku no Indo by Rash Behari Bose. On August 2, 1945, Mito was almost completely burned to ashes by British and American carpet bombings. At that time, Kyūsei Mito Kōtōgakkō and Kōdokan were almost completely burned down. Of course, the library of Mito Kōtōgakkō was also burned to nothing. As the school was going to disappear in the fire, the students put great effort into extinguishing the fire with buckets and buckets of water. At the same time, they stashed books in their backpacks and carried them to the nearby storage houses with thick protective walls, which were owned by the wealthy families in the area. They risked their lives to protect these precious books. Amongst them were the four books of Rash Behari Bose, bearing his own personal autographs. Please take a look at the photo of Shikkoku no Indo above. In it, you can see water stains. When I first saw this, I was deeply moved. The water stains on the book with Bose’s personal autograph told me deep stories.

水戸空襲

戦後、旧制水戸高等学校は閉校を余儀なくされ、今の茨城大学の一部になりました。空襲のためにかなり傷んでしまいましたが、今でも茨城大学図書館に保管され、閲覧可能です。本にはラス・ビハリ・ボース寄贈の印があり、彼の肉筆のサインもあります。興味がある方は是非出来るだけ早く茨城大学図書館に行ってみてください。国立国会図書館で本を閲覧していると、カミソリで破損された本が多いのに気が付きます。古書は一度破損され、切り取られるとそれっきりですからね。

बृहत्तर पूर्वी एशिया युद्ध के अन्त पश्चात्, क्यूसेई मीतो कोतोगक्को को बन्द होने पर विवश किया गया और वर्तमान इबाराकी विश्वविद्यालय में विलीन किया गया। रास बिहारी बोस के प्रदत्त पुस्तकें, जिनकी रक्षा कुछ अज्ञात छात्रों ने प्राण संकट में डालकर की थी, अब भी इबाराकी विश्वविद्यालय में सुरक्षित हैं। वहाँ उनके मुद्रा और हस्ताक्षर मिलेंगे। यदि आप उसे देखना चाहते हैं, तो शीघ्र ही यथासौकर्य वहाँ जाने का मेरा परामर्श है। कुछ बरसों से मैं राष्ट्रिय दायित्त ग्रन्थालय जाती रही हूँ, और देखने में आया है कि कुछ धूर्त लोग उस्तरों से मूल्यवान पुराने ग्रन्थों को काटते-छांटते फिरते हैं। किसी ने पुस्तक से कुछ पन्ने चीर दिए या फांक निकाला तो इसकी कोई क्षतिपूर्ति नहीं। वह सदा के लिए लुप्त हो जाता है।

After the end of the Greater East Asia War, Kyūsei Mito Kōtōgakkō was forced to close down and was absorbed into the present Ibaraki University. The books that were donated by Rash Behari Bose, and that were protected by the students sacrificing their lives, are still taken care of at Ibaraki University. There, you can find a stamp and his autograph. If you are interested in seeing it, I advise you to go there as soon as you are able. I have been visiting the National Diet Library for the past few years, and I have come to realize that there are wicked people going around with razors, mutilating precious old books. Once somebody slices pages off a book, there is nothing one can do about it. They will be gone for ever.

イギリス式公式資料作成法-(आधिकारिक प्रलेखों की ब्रिटिश सम्पादन पद्धति – British Method of Producing Official Documents)

1942年はラス・ビハリ・ボースが決死でインド独立に望んだクライマックスの年です。その年は彼の印刷物も最高のピークに達しました。その中で、いかにインド人がイギリスと戦っているか日本人に理解してもらおうと努力しました。イギリス人の本質の一つを暴くために彼はアムリットサル事件を紹介しました。

सं.१९४२ रास बिहारी बोस के ब्रिटिश साम्राज्यवाद-विरोधी संग्राम की पराकाष्ठा थी। इसी वर्ष उन्होंने सबसे अधिक संख्या में पुस्तकें छपवाए। इनके प्रकाशन द्वारा उन्होंने उषाद्वीप के जनमानस के मन को छूना चाहा, जिससे कि उन्हें भारत की दुर्दशा से अवगत करके ब्रिटन से छुटकारा पाने में सहाय जुटाने के लिये वे प्रतिबद्ध हो जाएं। ब्रिटन के चाल-चलन को दर्शाने के लिए बोस ने अमृतसर की सामूहिक हत्याकाण्ड को सबसे महत्वपूर्ण निदर्शों में से एक बताया।

The year 1942 was the climax of Rash Behari Bose’s battle against British Imperialism. That was the year in which he published the largest number of books. Through his publications, he tried to reach out to the people of Japan to make them understand India’s fate and convince them to help India to become free of Britain. He chose the Amritsar Massacre as one of the most important examples for illustrating how the British operate.

アムリットサル事件は1919年4月13日に起きました。インドのパンジャブ地方にあるシク教の聖地アムリッツァーで一般市民を英領インド帝国軍の部隊が非武装のインド人市民を突然襲い無差別射撃で乳幼児や女子供老人を含む多くの人を殺害しました。兵隊は主にグルカ兵だったとされています。実際の死傷者の数は明確ではありません。イギリスが絡んでいるものは全てが嘘で塗り込められているからです。気密解除になった書類などというものを重要視している人がいますが、元々の書類が嘘の記述ですから、真相を突き止めるということはむずかしいのです。

अमृतसर का परासन, या जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड, १३ अप्रैल १९१९ को घटी। ब्रिटिश इण्डियन सेना के प्यादों ने शिशु, किशोर, महिलाएं और बूढ़ों से भरे निहत्थे भारतीय आम नागरिकों के समागम पर अपनी बन्दूकें चलाईं, जिससे बड़ी संख्या में लोग मरे और घायल हुए। अधिकांश प्यादे गोरखा थे। हताहतों की सटीक संख्या अज्ञात बनी रही, ब्रिटन-सम्बन्धी ऐसी सारी घटनाएं झूठ और धोखे की धुँधलापन में घिरे हैं। फिर भी ऐसे कई लोग हैं जो ब्रिटन के प्रकटित प्रलेखों को महत्त्व देते हैं, किन्तु इन लेखजात में उयोग की कोई वस्तु होना असम्भाव्य है, क्योंकि ब्रिटिश प्रतिवेदन अधिकतर रचे-रचाए होते हैं।

The Amritsar Massacre, or Jallianwala Bagh massacre, occurred on April 13, 1919. Troops in the British Indian Army fired their rifles into a crowd of unarmed Indian civilians, including infants, children, women and the elderly, killing and injuring vast numbers. Most of the soldiers were Gurkhas. The exact number of casualties remains unknown, all such incidents involving Britain are shrouded in lies and deception. There are many people who put importance in what they read in British declassified documents, however it is not likely that there is anything useful in such texts, as British reports are largely fabrications.

さて420年前に戻ってみましょう。1600年からズルズルと侵略してきたイギリスを追い出そうと、インド人は1857年5月3日に戦を仕掛けたのですが、それに失敗して1858年6月28日にイギリス王室直属の植民地にされてしまいました。

४२० वर्ष पूर्व की ओर चलते हैं। ब्रिटन ने भारत पर सं.१६०० ई. में आक्रान्त होना आरम्भ किया था। उनको खदेड़ने के लिए भारत ने मिलकर अन्ततः ३ मई १८५७ को लड़ने का प्रयास किया, अपितु हारकर २८ जून १८५८ को ब्रिटिश उपनिवेश बनकर रह गया। उन्होंने ब्रिटिश सामन्तों से छुटकारा पाने का सपना कभी भुलाया नहीं।

Let us now go back 420 years. The British had begun invading India in the year 1600. Indians fought back against the British on May 3, 1857, trying to expel them, however they lost the war and India ended up becoming a British Colony on June 28, 1858. They never gave up on the idea of becoming free of their British invaders.

植民地にされてからのインドは退廃の一途をたどりました。そんな中で1914年7月28日に欧州大戦(現在は第一次世界大戦と呼ばれています)が始まり、イギリスはドイツと苦戦することになります。勝ち目がないと悟ったイギリスはインドに策略をかけます。1917年8月に、イギリスはインドに対し、参戦と資金援助を要請し、戦勝の暁にはインドに独立又は自治を許すと約束したのです。インド側は985000のインド兵を欧州戦争の戦線に送り30数億ルピーの軍費をイギリス本国に提出したのです。

ब्रिटिश उपनिवेश बनने के पश्चात् तीव्र गति से भारत का क्षय और पतन बढ़ता गया। जब भारत ब्रिटिश साम्राज्य के क्रूर शासन तले तड़प रहा था, तब २८ जूलाई १९१४ को यूरोपी महासमर (जिसे आज पहला विश्वयुद्ध कहा जाता है) शुरू हुआ, और आंग्लदेश ने जर्मनी पर हल्ला बोल दिया। इस युद्ध में अपरिहार्य पराजय का सामना करते हुए ब्रिटन ने भारत को एक भव्य योजना का प्रस्ताव किया। ब्रिटन ने भारत को वचन दिया कि भारत को स्वराज प्रदान किया जाएगा यदि भारत के योगदान से वह युद्ध जीतें। भारत ने ९,८५,००० सैनिक को घमासान के अग्रानीक पर भेज दिये और ब्रिटिश सेना को ३० अरब (३ बिलियन) से कई अधिक रुपये अर्पित किए।

India deteriorated rapidly since becoming a British colony. While India was suffering from the cruel British imperial regime, the European War (now called World War I) started on July 28, 1914, and England started to battle against Germany. Facing an inevitable loss in the war, Britain approached India with a grand scheme. Britain promised India that they would grant India self-rule if Britain won the war as a result of Indian contributions to the war effort. India sent 985,000 soldiers to the war front and gave well over 3 billion rupees to the British military.

インドからの膨大な協力でイギリスは戦争に勝ち、1919年1月28日のベルサイユ講和条約調印までこぎつけるわけですが、インドに対して、お礼を言うだけで独立はおろか自治さえも許してくれませんでした。それどころか同年3月21日にはローラット法という悪名高い法律を制定してインド人に対する抑圧を強化したのです。

भारत से इस अभूतपूर्व सहायता के साथ, युद्ध एक ब्रिटिश जीत में समाप्त हुआ जो २८ जनवरी १९१९ को वर्साय की संधियों पर हस्ताक्षर के साथ संपन्न हुआ। भारत से मौखिक कृतज्ञता अभिव्यक्त करने के अतिरिक्त ब्रिटन ने अपने दिए वचन को भुला दिया। स्वतन्त्रता तो दूर की बात, भारत को सीमित स्वराज भी नहीं दी गई। उलटा, ब्रिटन ने भारतों का दमन तीव्र करते हुए कुख्यात रौलत अधिनियम पारित किया।  

With this phenomenal assistance from India, the war ended in a British victory which concluded with the signing of the Treaties of Versailles on January 28, 1919. The only thing Britain did was express their gratitude to India, ignoring their promise. India was not even allowed self-government, not to mention independence. On the contrary, Britain only further intensified its oppression of Indians by passing the notorious Rowlatt Act.

ローラット法が有効になると、イギリス人は令状が無くてもインド人を逮捕し思うがままに監禁し続けることが許されました。そして、裁判は非公開が許され、被告には告発者や証人に直面することも名前も告げなくても良いことになりました。被告は証言することを許されず、書面のみの陳述が許されました。被告人には弁護士も証人も訴訟手続も公訴権も許されませんでした。政治犯となってしまった者と接触するだけで逮捕され、弁護したり、無罪であることを口にするだけで犯罪人になりました。そのローラット法に反対した者たちが次々と様々な形で反対運動を起こし、大騒動が起きました。それをコントロールすべくイギリスはインド人の集会を禁じ、ダイヤー将軍を任務につかせました。

रौलत अधिनियम के अनुसार, ब्रिटिश को यह छूट थी कि वे किसी भी भारतीय को बिना अधिपत्र निगृहीत और काराबद्ध करके मनचाही अवधि के लिए उन्हें आसेध में रखें। विधिगत प्रक्रियाओं को गुप्त रखने की अनुमति थी। आरोपियों को इतना भी अधिकार महीं था कि वे अपने अभियोगियों या साक्षियों के बोरे में जानें। आरोपियों को व्यक्तिगत परिसाक्ष्य देने की अनुमति नहीं थी, केवल लिखित सत्यपाठ। रक्षा अधिवक्ताएं, विधिगत प्रक्रियाएं और पुनर्वाद के अधिकार से वंचित कर दिए गए। हर कोई जिसका राजनैतिक अपराधियों से सम्पर्क रहा हो, उसे निगृहीत किया जाता था, और इन आरोपियों को निर्दोष बताने वाले भी अपराधी माने गए। भारतवासियों ने रौलत अधिनियम का भरपूर विरोध किया और रोष उफान पर उठी। इसे रोकने को लिए ब्रिटन ने देश में समागम पर निषेध डाला, और कर्नल डायर को इस विधान को लागू करने का दायित्व सौंपा।

Under the Rowlatt Act, the British were allowed to arrest and imprison Indians without a warrant and detain them for any length of time. It allowed legal procedures to take place in secret. The accused were not given the right to know anything about their accusers or witnesses. The accused were not allowed to testify in person, but only written testimonies were allowed. Defense lawyers, legal procedures, and the right to appeal were denied. Anyone who had any contact with political criminals were arrested, and anybody who supported the innocence of the accused also became criminals. Indians protested against the Rowlatt Act and huge uproars arose. To control this, Britain forbade Indians from gathering, and put Colonel Dyer in charge of enforcing the laws.

1919年4月13日、シク族のお祭りの日で、例年のようにジャリアンワラ公園に数千人の人たちが家族連れで集まりました。恒例のお祭りだから、人が集まるのを知っていましたから、英印軍は連帯を組んで待受け、片っ端から逃げ惑う民衆をライフルで撃ち殺したのです。そして、市中に戒厳令を布いて翌朝まで現場に近づくことを許しませんでした。ですから、手当をすれば助かったはずの負傷者たちも死体の下敷きになったまま死んでいったのです。この事件は戒厳令が続く中数ヶ月他に漏れることはありませんでした。

१३ अप्रैल १९१९ को वार्षिक वैशाखी त्यौहार मनाने के लिए जलियाँवाला बाग में सहस्रों सिक्ख सपरिवार इकट्ठे हुए। यह जानते हुए कि उस दिन सिक्खों का समागम होगा, बाग के खचाखच भरते हि कर्नल डायर ने ब्रिटिश इण्डियन प्यादों को वहाँ लेकर निरीह नागरिकों की अधिकाधिक हत्या के उद्देश्य से अपने आदेश से गोलियाँ बरसाए। तुरन्त नगर को सैन्य शासनाधीन किया गया, और किसी को घटनास्थल में प्रवेश करने नहीं दिया गया। परिणामस्वरूप, जो बेचारे गोली खाकर मरे नहीं, और शायद तत्काल उपचार से बचाए जा सकते थे, वे भी अनगिनत शवों के ढेर तले घुट-घुटकर मर गए। महीनों तक यह घटना रहस्य रखी गयी।

On April, 13, 1919, thousands of Sikhs, including many families, gathered in Jallianwala Bagh Park to celebrate the annual Vaisakhi festival. Knowing that Sikhs would gather together on this day, Colonel Dyre led British Indian troops into the park as soon as it was packed with Sikhs, and under his command, the troops shot at the innocent civilians with the intention of murdering as many as possible. Immediately, the city was placed under martial law and nobody was allowed to enter the site. As a result, even those who survived the shots, who might have survived with the proper treatment, ended up dying buried under countless corpses. This incident was kept secret for several months.

そればかりではないのです。戒厳令下では英印兵は、したい放題の蛮行が許されました。男も女も子供までが部屋から引きずり出され辱められたのです。家々は放火で焼かれ、田畑も荒らされました。イギリスは飛行機を使って空爆までしたのです。このようにして、英印軍はインド人に対する絶対権をもっていて、殺戮や乱暴は無限に行うのだということを身を以て経験させたのです。インド人も黙っていたわけではなく、抵抗し、暴動を起こし、政府側に銃殺される結果をひきおこしました。

जबकि इस नगर को सैन्य शासनाधीन और शेष भारत से बन्द रखा गया, ब्रिटिश इण्डियन प्यादों को अधिकतम बर्बरता करने को प्रोत्साहित किया गया। पुरुष, स्त्री और नन्हों को अपने प्रकोष्ठों से सड़कों पर घसीटा गया और पीटा गया। सैनिकों ने कई घर जलाए और खेत नष्ट कर दिए। ब्रिटिश वायु सेना ने आम लोगों की बस्तियों पर विमानाक्रमण भी किए। इस प्रकार ब्रिटिश इण्डियन बलतन्त्र ने जनता पर अपना सम्प्रभुत्व दर्शाया और उनको यह समझाया कि उनकी क्रूरता असीम थी। किन्तु भारतीय जनता ने यह सब चुपचाप नहीं स्वीकारा। वे विद्रोह और दंगे करते रहे, और ब्रिटिश इण्ड्यन सरकार ने केवल हत्या से प्रत्युत्तर दिया।

While the city remained closed from the rest of India and was kept under martial law, British Indians were encouraged to maximally perform any acts of barbarism. Men, women and even children were dragged out of their rooms into the streets and assaulted. Soldiers set many houses afire and destroyed agricultural fields. The British even air raided them. In this manner, the British India force showed their absolute power over the people and made them understand that their brutality was limitless. The Indian populace did not accept this quietly, however. They rebelled and rioted, but were only murdered by the British India government.

一旦、この事件が外に漏れると、全インド人は反英に沸き立ちました。英国のインド統治の実態があらゆる方面から明らかにされ、イギリスは非難を受けるようになりました。

जब अमृतसर में हुए अत्याचार की वार्ता अशेष भारतवर्ष में फैल गया, भारतीय जनता ब्रिटिश-विरोधी आन्दोलन में उठ खड़ी हुई। अलग-अलग दृष्टिकोण से ब्रिटिश उपनिवेशवाद की सच्चाई उजागर होने लगी और लोग उसकी निन्दा करने लगे।

Once the atrocities that unfolded in Amritsar became known across the rest of India, the Indian public rose up with an anti-British movement. The truth of the British colonization of India became known from various angles and people began to criticize Britain.

そこでイギリス政府はやむなくハンター・コミッションを送って事情調査をさせました。委員会のメンバーはイギリス人5名、インド人3名でした。そのインド人もインド人が選んだのではなく、イギリス人が親英国的なインド人を選択して任命しました。イギリス人の調査報告を信頼できないとしたインド国民会議はインド人だけを任命して別の調査委員会を構成し調査させました。もちろんの事ながら、イギリスはハンター・コミッションの報告のみを公正なものとして認めました。現在でもいわゆる「真実」はハンター・コミッションの報告とされ、それを信じるのが正当なのです。

बढ़ती आलोचना के शमन के लिए ब्रिटन ने जलियाँवाला बाग की घटना की सच्चाई जानने को लिए हण्टर आयोग प्रेषित किया। अन्वेषक आयोग में ५ ब्रिटिश और ३ देसी थे। ये ३ देसी भी सावधानी से चुने गए, निष्ठावान् ब्रिटिश श्रद्धालु सब के सब। इण्डियन नैशनल कांग्रेस ने अपना एक अलग पड़ताल करके ब्रिटन को अपना प्रतिवेदन भेज दी। यह बताने की आवश्यकता नहीं कि ब्रिटन ने केवल हण्टर आयोग के प्रतिवेदन को आधिकारिक और औपचारिक संस्करण के रूप से स्वीकारा। हण्टर आयोग प्रतिवेदन की सामग्री हि “सच्चाई” है जिसपर विश्व के भरोसे की अपेक्षा है।

In order to quieten the criticism, Britain sent the Hunter Commission to investigate what had actually happened in Jallianwala. The research commission consisted of five British and three Indians. Even these Indians, however, were carefully selected, faithful British loyalists. The Indian National Congress independently investigated and sent their report to Britain. Needless to say, Britain accepted only the Hunter commission report as the legitimate and official version. The contents of the Hunter commission report are the “truth” that the world is expected to believe.

更に国民会議派は事件に直接関係があった1700以上の人々の証言を揃えて報告書を作成しましたが、イギリス政府の委員はそれらを使わずに都合の良い材料だけを使って報告書を作りました。検閲を使い、イギリスに都合の悪いことは一切報告を禁じました。

इण्डियन नैशनल कांग्रेस के प्रतिवेदन में १७०० से अधिक ऐसे लोगों के साक्षात्कार थे जो हत्याकाण्ड के समय घटनास्थल के  आसपास उपस्थित थे। अपितु हण्टर आयोग ने केवल ब्रिटन के अनुकूल साक्ष्य संचित किया। अपने पूर्वनिर्धारित निष्कर्ष का समर्थन न करने वाले सारे साक्षी और साक्ष्य को लुप्त और निष्कासित कर दिया।

The report produced by the Indian National Congress contained over 1700 testimonies from people who were on the site where the massacre took place. On the other hand, the commission collected only testimonies that would suit Britain. They censored and eliminated any testimonies and evidence that would not support their predetermined conclusion.

パンジャブに反乱などは起きたとか起きなかったかということも書くことを禁じました。数カ所で起きた農民の一揆についてもイギリスが発砲する必要があったのか、そもそも農民が一揆を起こしたのかそれとも政府軍の乱暴に農民が反撃したのかも伝えられていません。政府が人民に対して発砲したからこそアムリッツァーに暴動が起きたのに、それも述べられていません。それを言うとジャリワンワラ公園での無差別大量虐殺を認めなくてはならないからです。

आयोग यह बताने से बचे रहे कि पंजाब में हत्याकाण्ड के बाद वास्तव में विप्लव मचा या नहीं। वह न केवल किसान आन्दोलन के कारण और ब्रिटिश द्वारा उनपर गोलाबारी पर वक्तव्य देने से चूके, अपितु इस बात पर भी मौन साध लिया कि ऐसे घटनाएं कभी घटी भी नहीं। जलियाँवाला बाग कुकृत्य के बाद अमृतसर में विस्तृत दंगों को भी रहस्य बनाए रखा, नहीं तो इस बात को अंगीकार करना पड़ता कि ब्रिटिश ने वस्तुतः सिक्खों की जलियाँवाला बाग में अन्धाधुन्ध हत्याएं की।

The commission avoided indicating whether there was indeed an uprising in Punjab following the massacre. Not only did they avoid addressing the farmer’s uprisings and why the British shot at them, but also, Britain remained completely silent on the fact that such incidents had ever even occurred. They kept secret about the fact that huge riots took place in Amritsar following the Jallianwala Bagh massacre, as if they did not, they would have to acknowledge the fact that the British had indeed committed indiscriminate mass murder on Sikhs at Jallianwala Bagh.

この事件による死傷者は、ハンター報告書では死者379名、負傷者1200名としています。一方で、国民会議派の報告書では死者1200名、負傷者3200名としています。逃げ場のないお祭り広場には1万5千人から2万人密集していました。その逃げ惑う民衆に向かって、プロの兵士がライフルを使って1650発の弾丸を撃ったのですから常識で考えてもどちらの報告書が正しいのかわかります。それでも、イギリスは政府から送ったハンター調査団の報告が公式であり、正当であると主張するのです。それがイギリスの公式書類というものなのです。

हण्टर आयोग के अनुसार अमृतसर घटना में ३७९ हत और १२०० आहत थे। इण्डियन कांग्रेस ने १२०० हत और ३२०० आहत बताया। त्यौहार का प्रांगण बन्द परिसर था जिससे भागना दूभर था, और जिसमें १५००० से २०००० सिक्ख इकट्ठे हुए थे। भीड़ पर निकट से प्रशिक्षित सैनिकों ने १६५० गोलियाँ दागे। इससे किसी को भी पता चल जाएगा कि दोनो प्रतिवेदनों में से कौनसा सच के समीप था। फिर भी ब्रिटन का यह आग्रह रहा कि हण्टर आयोग का सम्पादित प्रतिवेदन हि सटीकतर था। ब्रिटिश आधिकारिक प्रलेखों का यह है मानक।

According to the report by the Hunter Commission, there were 379 dead and 1200 injured in the Amritsar incident. The Indian Congress reported 1200 dead and 3200 injured. The festival site was a enclosed area that was difficult to escape, and there were 15,000 to 20,000 Sikhs gathered there at the time. Professional soldiers fired 1650 bullets into the crowd within a close range. Anybody can see which of the two reports was accurate. Even then, Britain insists that the report produced by the Hunter Commission is the official and more accurate report. This is the standard of the British Official Papers.

つまり、イギリスが調査するときには、まず結果が決まっていて、その結果を正論化するために調査団を結成します。そして、調査団は真実を決して言わない人物だけを選択します。そして、調査対象を厳選して、結果にそぐわない対象を外します。ですから、直接に経験し、真実を述べる人は絶対に対象から外します。イギリスの肩を持ち憶測で物事を言う人間のデマでっち上げを証言として取り扱い、その人達を後に優遇します。

जब ब्रिटन किसी बात का पड़ताल करता है, वह उसी निष्कर्ष पर पहुँचता है जो ब्रिटन के अनुकूल हों। वह केवल इसलिए आयोग गठित करते हैं कि अपने पूर्वनिर्धारित मन्तव्य को आधिकारिक रूप दिया जाए। आयोग के ऐसे सदस्य चुने जाते हैं जो सच को कभी प्रकट नहीं करेंगे, और मिथ्या प्रतिवेदन का उद्देश्य पूरा करेंगे। आयोग उन्हीं लोगों और विषयों की जांच करती है जो उनके पुर्वनिर्धारित अवसान की पुष्टि कर सकें। ऐसे हि व्यक्तियों के साक्षात्कार चुने जाते हैं जो शपथ ग्रहण करके भी केवल ब्रिटन के हित में झूठे वक्तव्य देने को तैयार रहें। सामान्यतः ऐसे व्यक्ति आगे जाकर उन्नति के पात्र बनते हैं।

When Britain investigates a matter, they always come to a conclusion that would suit Britain. They form a commission only in order to make their conclusion official. They select commission members who would never reveal the truth, and would carry out their mission of making a false report. The commission carefully selects who and what to investigate that would support their predetermined outcome. They choose only the testimonies of individuals who are willing to make false statements that suit Britain, despite them being under oath. Typically, such individuals get a promotion at a later date.

イギリスにとって都合の良い「事実」をメディアなどを使って長年にわたって反芻させることで信憑性を高めるのです。

ब्रिटन बार बार अपना “सच” दोहराएगा, सूचना संचार माध्यमों और शिक्षा स्रोतों के पूरे बल और प्रतिष्ठा से दोहराएगा, जिससे कि जनता को कभी उनके वक्तव्यों पर सन्देह न हों।

Britain continues to endlessly repeat their “truth,” using media and other means to ensure that the public never has any doubt in the credibility of these statements.

抹消された遺骨 (रास बिहारी बोस के ओझिल भस्मावशेष – Disappeared ashes of Rash Behari Bose)

1951年9月8日には、日本がサンフランシスコ条約と日米安全保障条約に調印し、次の年1952年4月28日に日本の主権が回復したのですが、その時、ネルーの黒い策略が日本で蜷局を巻きました。ネルーといえば、大東亜戦争中極端な反日運動を展開し、日本の戦局を悪くし、ラス・ビハリ・ボースのインド独立運動を邪魔し続けた人物で、当時日本でたいそう人気の悪かった人でした。下に関連事項を年表のように箇条書きにしますね。

८ सप्तम्बर १९५१ को जापान ने अमेरिका के साथ सान फ़्रांसिस्को सन्धि और सुरक्षा संविदा पर हस्ताक्षर किये। अगले वर्ष, २८ अप्रैल १९५२ को जापान का स्वराट् शासन पुनःस्थापित किया गया। यह वही समय था जब नहरू के काले करतूते और दुष्ट चालें उषाद्वीप पर अवतरित हुए। विगत बृहत्तर पूर्वी एशियाई युद्ध के समय नहरू जापान के विरुद्ध अतिविद्रूपित दुष्प्रचार का लेखन और प्रसार का दायित्व निभा चुके थे। वे जापान के संग्रामी प्रयत्नों और रास बिहारी बोस के स्वतन्त्रता आन्दोलन में लगातार बाधा डालते रहे। सहज बात हैं कि उन दिनों नहरू उषाद्वीप में अति  अलोकप्रिय व्यक्ति रहे। इसे समझने के लिए, मैंने प्रासंगिक घटनाओं की एक छोटी सूची तैयार की है और उसे नीचे दिए गए समयरेखा पर सजाया है।

On September 8, 1951, Japan signed the San Francisco Treaty and the Security Treaty between the US and Japan. The following year, on April 28, 1952, Japan’s sovereign rule was restored. It was at that time that Nehru’s dark trickery and evil scheming descended upon Japan. During the Greater East Asia War, Nehru was responsible for developing and expanding extreme anti-Japanese sentiment. He continually hindered Japan’s war efforts and Rash Behari Bose’s Indian independence movement. In those years, Nehru was obviously an extremely unpopular figure in Japan. To illustrate this, I have compiled a small list of relevant events and arranged them into the timeline below.

  • 1949年 インド首相ネルーが東京に象を贈る。象の名はネルーの娘の名、インディラ。ここから「やさしいインドのおじさん」のイメージをつくる
  • 1952年 日印平和条約締結
  • 1954年 George Ohsawaが The Two Great Indians in Japan を出版、ラス・ビハリ・ボースがどんな人物であったかを英語で描く
  • 1954年 相馬愛蔵死亡
  • 1955年 相馬黒光死亡
  • 1957年 相馬夫妻の長男の相馬安雄死亡
  • 1957年 ネルーがラス・ビハリ・ボースの愛娘哲子を訪れ、ボースの遺骨と遺品をインドに送ることを要請する
  • 1958年 スバス・チャンドラ・ボースの遺骨返還を目的としたチャンドラ・ボース・アカデミーが結成される
  • 1959年 Rash Behari Basu – His Struggle for Indian Independence が出版される
  • 1959年 ラス・ビハリ・ボースの遺骨と遺品の大半がインドに送られ、行方不明になる
  • १९४९: नहरू, भारत के प्रधान मन्त्री, एक हाथी को तोक्यो भेजते हैं। हाथी का नाम नहरू की बोटी इन्दिरा के नाम पर रखा गया है। इसके साथ हि नहरू की एक “स्नेहशील देसी दादाजी” जैसी छवि सक्रिय रूप से बनाने का प्रयास किया गया है।
  • १९५२: भारत-उषाद्वीप शान्ति सन्धि पर हस्ताक्षर जोड़े गए।
  • १९५४: जार्ज ओह्सावा ‘उषाद्वीप में दो महान् भारतीय’ नामक पुस्तक प्रकाशित करते हैं, जिससे आंग्ला-भाषी पाठकों को रास बिहारी बोस के बारे में बहकाया जाता है।
  • १९५४: सोमा आयज़ो स्वर्ग सिधारे।
  • १९५५: सोमा कोक्को ने प्राण त्यागे।
  • १९५७: आयज़ो और कोक्को के ज्येष्ठ पुत्र सोमा यासुओ परलोक सिधारे।
  • १९५७: नहरू रास बिहारी बोस की बेटी तेत्सुको से मिलने गए और बोस के अवशेषों को भारत भेजने का अनुरोध करते हैं।
  • १९५८: जापान में सुभाष चन्द्र बोस विद्याशाला का न्यास हुआ, जिसका उद्देश्य सुभाष चन्द्र बोस के अवशेषों को भारत लौटाना था ।
  • १९५९: ‘रास बिहारी बसु: भारतीय स्वतन्त्रता हेतु उनका संघर्ष’ प्रकाशित हुआ।
  • १९५९: रास बिहारी बोस के भस्मावशेष और पुरावशेष कृतियाँ भारत भेजे जाते हैं और आगे उनका कोई अता-पता नहीं मिलता।
  • 1949: Nehru, the Prime Minister of India, sends an elephant to Tokyo. The elephant is named after Nehru’s daughter, Indira. With this, the image of Nehru as a “friendly Indian grandpa” is actively created.
  • 1952: The Indo-Japan Peace Treaty was signed.
  • 1954: George Ohsawa published The Two Great Indians in Japan, misinforming English speakers about Rash Behari Bose.
  • 1954: Soma Aizo passed away.
  • 1955: Soma Kokko passed away.
  • 1957: Aizo and Kokko’s eldest son, Soma Yasuo, passed away.
  • 1957: Nehru visited Rash Behari Bose’s daughter, Tetsuko, and requested Bose’s remains to be sent to India.
  • 1958: The Subhas Chandra Bose Academy of Japan was established, with the goal of returning Subhas Chandra Bose’s remains to India.
  • 1959: Rash Behari Basu: His Struggle for Indian Independence was published.
  • 1959: Rash Behari Bose’s remains and artifacts were sent to India, and their whereabouts became unknown.

ラス・ビハリ・ボースの遺骨と遺品は、インドに霊廟を作り博物館をつくるという名目で哲子にインドへ贈らせたのですが、その行方は知れず渾然と消えてしまいました。インドのどこかにあるのかもしれないし、捨てられてしまったという危惧もあります。

रास बिहारी बोस के अवशेष और पुरावशेष तेत्सुको से इस वचन पर भारत भिजवा दिए गए थे कि वहाँ एक स्मारक और संग्रहालय का निर्माण होगा। किन्तु वास्तव में वे ओझिल हो गए और उनका कोई अता-पता मिलना बन्द हो गया। शायद वे भारत में आज भी कहीं पर संगृहीत हों, परन्तु यह शंका भी है कि उन्हें फेंक दिया गया। 

Rash Behari Bose’s remains and artifacts were taken from Tetsuko and she was made to deliver them to India upon the promise that a mausoleum and museum would be constructed. In reality, however, they vanished and their whereabouts became unknown. They may still be stored somewhere in India to the present day, but there is also the concern that they have been thrown away.

サンスクリット文化圏 (संस्कृतनिष्ठ सासंस्कृतिक मण्डल – The Sanskrit Cultural Sphere)

インド文化とサンスクリット語が何千年もの間浸透してきた地域をインド文化圏と言いますが、それを私は敢えてここでサンスクリット文化圏と言い換えます。なぜなら、インドと言う言葉が今のインド国を指すために、現在のインドと言う国が影響した国という印象になってしまい、どちらかというと現在のインドが中心になって想像されてしまうからです。

कुछ लोग भारतीय संस्कृति और संस्कृत भाषा से व्याप्त देशों को विशाल भारत के नाम से लक्षित करते हैं। किन्तु इस लेखावलि में मैंने इस क्षेत्र को संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल के नाम से अभिहित किया है। इसका कारण यह है कि वर्तमान में भारत का नाम केवल एक संकीर्ण परिभाषित राजनीतिक इकाई को सन्दर्भित करती है, और यदि यहाँ विशाल भारत जैसे नाम का उपयोग को खींचा जाए तो पाठकों को यह भ्रम हो सकता है कि संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल के सदस्य देश वर्तमान भारत जैसे समाज से प्रभावित हुए होंगे। ऐसे में लोग सम्भवतः इस निष्कर्ष पर पहुँचेंगे कि यह संकीर्ण भारत ही उन सकल संस्कृतियों का केन्द्र बिन्दु है।

Some people use the word Greater India to refer to the areas that were permeated by Indian culture and Sanskrit language. However, in this blog, I use the name Sanskrit Cultural Sphere to indicate such regions. The reason for this is that presently, the word India refers only to a narrowly defined political entity, and if I continue to use the term Greater India, readers may become confused that these members of the Sanskrit Cultural Sphere had been influenced by India as it exists today. If this happens, people may then conclude that this narrowly defined India is the center of all such cultures.

下の地図では、古代インド文化の影響が強い所が濃いオレンジ色で、その次に強い所が淡いオレンジ、もう少し弱めの所が黄色になっています。これらの地域全てが欧米の植民地にされた過去を持ち、荒らしたい放題荒らされましたから、現在いったいどの地域に古代インド文化が継承されているのかは疑問です。しかし、これら全ての地域にヒンドゥー教と仏教とサンスクリット語が残っています。

निम्न मानचित्र पर दृष्टि पसारें। गहरे नारंगी रंग में वह देश हैं जहाँ प्राचीन भारत का प्रभाव प्रबल है, और तदनुसार छाया जितनी हलकी उतना ही फीका।

Please take a look at the map below. Dark orange indicates the areas in which the influence of the Ancient India is the greatest, and accordingly, the lighter the shade, the weaker the influence.

Greater India

848年に成立したチョラー朝は、最大勢力時期の1030年ごろにはこの地域を広く支配していて、海軍が活動し、海賊を退治したりして海の安全を守っていました。赤い線は貿易のルートで日本まで続いています。これは1279年まで続きました。

अगला मानचित्र चोळ साम्राज्य को रेखांकित करती है, जो कि दक्षिण भारत में ८४८ ई. में स्थापित किया गया, और दर्शाये गए क्षेत्र पर नियंत्रण रखा करती थी। उसकी नौसेना इन समुद्रों पर पहरा लगाती थी। (पराकाष्ठा सं. १०३० को पहुँची।) लाल रेखा उस व्यापार-मार्ग को इंगित करती है जो मलय और इंदुनीशिया से होकर उषाद्वीप तक पहुँचता था। यह चोळ व्यापार-मार्ग १२७९ तक क्रियाशील रही।

The following map indicates the Chola Empire, which was established in South India in 848, and was controlling the area shown below. Its navy was policing this part of waters. (The peak period was 1030. ) The red line indicates the trade route that went through Malaysia and Indonesia, all the way up to Japan. The Chola trade route was active until 1279.

Chola Dynasty (1030)

日本では600年には最初の遣隋使、618年には最初の遣唐使が送られました。これはあくまでも公的な使いを隋そしてその後の唐の国に送ったというもので、貿易や漁業などはずっと長く頻繁に広く行われていました。

उषाद्वीप ने स्वे राज्य (चीन) को सं. ६०० ई. से नियोग भेजना आरम्भ किया, और फिर ६१८ से तांग राज्य को (जब स्वे को तांग वंश ने वश में लिया)। सं. ६०० से लेकर ८९४ ई. तक पूरे २३ राजनियोग प्रेषित किये गए। यह मात्र औपचारिक यात्राएँ थीं जो इतिहास के पन्नों में पंजीकृत हैं, किन्तु निजी व्यापारी नियोग और मीनग्राही नौकाओं की यातायात इस क्षेत्र में बहुत पहले से ही प्रचलित थे और काफी देर तक चलती रही।

Japan sent missions to Sui, China, starting from the year 600, and to Tang (after Sui was taken over by Tang), starting in 618. A total of 23 missions were sent between 600 and 894. These were the official voyages that have been recorded in history, however, there were also private trade missions and fishing boats that frequented this area, starting from much earlier, and which continued for a very long time.

Kento-shi

16世紀ごろの貿易ルートと朱印船の航路は次のとおりです。青い丸は日本町、赤い丸は日本人の居留地で、日本人は東南アジアの色々な土地に溶け込んで活躍していました。

अगला मानचित्र १५०० की शताब्दी के जापानी व्यापार मार्गों को दर्शाता है। नीले वृत्त जापानी नगरों को इंगित करते हैं और लाल वृत्त जापानी आवासीय क्षेत्रों को। दूर और विस्तीर्ण परिमाण पर पूर्वी एषियाई देशों के साथ उषापुत्रों ने व्यापार किया, उन क्षेत्रों में बसे, और पूर्वी एशियाई संस्कृति में बड़े भागीदार बने।

The following map indicates the Japanese trade routes of the 1500s. The blue circles indicate Japanese towns, and the red circles show Japanese residential areas. The Japanese traded with East Asian nations far and wide, they settled in these areas , and were a big part of East Asian culture.

16c,Japanese trade routes and Japanese presence

日本に仏教が伝わったとされるのが538年ごろといわれ、そのころからインド文化やサンスクリット語も熱心に学ばれました。

इसके बहुत पहले ही, सं. ५३८ ई. में, बौद्ध सम्प्रदाय उषाद्वीप पहुँच चुकी थी और भिक्षु ब्रह्मचारीयों ने व्यासंग भाव से भारतीय संस्कृति और संस्कृत भाषा का गहन अध्ययन करना चालू किया था।

It was well before this, in 538, that Buddhism arrived in Japan and the monks passionately studied Indian culture and Sanskrit.

西洋のインド学ではインド人が日本まで到達せず、日本がサンスクリット文化圏にはいらないと言われていますが、上の地図を比較してみただけでも日本は東南アジアを通してインドにずっと続いていたのがよく解りますね。

पाश्चात्य देशों में पढ़ाई जाने वाली भारतीय सांस्कृतिक शिक्षा के अनुसार, भारत के लोग कभी उषाद्वीप नहीं पहुँचे, और जापान संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल का भाग पिछले महायुद्ध के उपरान्त तक था ही नहीं। किन्तु यदि आप पूर्वांकित मानचित्रों का अध्ययन करें, तो यह स्पष्ट हो जाता है कि जापान सदा ही भारत से पूर्वी एशिया द्वारा जुड़ा रहा।

The cultural studies of India, as taught in the West, state that people of India never reached Japan, and that Japan was not a part of the Sanskrit Cultural Sphere until well after the end of the last war. However, if you study the above maps, it becomes obvious that Japan has always been connected to India through East Asia.

ちなみに、世界最古のサンスクリット語の文献は日本にある法隆寺の般若心経で、7〜8世紀のものと言われています。そして、戦後廃れたとは言え現在でも世界で一番サンスクリットの研究が盛んな国は日本です。ですから、日本は完全にサンスクリット文化圏にはいります。

मुझे यह भी बताना चाहिये कि सबसे पुराना वर्तमान प्रलेख होर्यु-जी का प्रज्ञापारमिता हृदय सूत्र है (७वीं से ८वीं शताब्दी)। और जबकि वृहत्तर पूर्वी एशियाई महायुद्ध के उपरांत जापान में संस्कृत शिक्षा क्षीण हुई है, फिर भी जापान विश्वभर में संस्कृत शिक्षण में सर्वप्रथम है। मात्र इस कारण से मैं यह कह सकती हूँ कि उषाद्वीप निश्चित ही संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल का अटूट अंग है।

I must point out also that the oldest surviving Sanskrit document is the Heart Sutra of Hōryū-ji ( 7 to 8 century). Also, even though Sanskrit studies in Japan deteriorated after the end of the Greater East Asia War, Japan still is the world’s top in Sanskrit studies. For this reason, I would say that Japan certainly is a part of the Sanskrit Cultural Sphere.

Heart Sutra of Horyu-ji

次の地図は大東亜戦争寸前の大英帝国です。赤いところが大英帝国ですが、青のアメリカも実質的に大英帝国の一部です。

अब ब्रिटिश साम्राज्य के इस मानचित्र पर ध्यान दें, जो लाल वर्ण से इंगित है। नीला भाग, अमेरिका, संकीर्ण समझ-बूझ से तो ब्रिटन का उपनिवेश अब नहीं रहा, परन्तु ब्रिटिश साम्राज्य का हल्का रूपांतरण ही है, और दोनों को अलग नहीं किया जा सकता।

Now, please take a look at the map of the British Empire, indicated in red. The blue part, the US, is not strictly a British Colony anymore, however, it is still a slightly modified version of the British Empire, and the two are not separable.

この大英帝国を実質的に作ったのはインド人です。当時インド人はイギリス国籍を持つイギリス人でした。イギリスが他国を侵略したときにはインド人を使いましたから、この赤と青の地域には数しれない無数のインド人たちが住んでいるのです。

जिन लोगों ने इतनी लंबी-चौड़ी ब्रिटिश साम्राज्य बनायी, वे वस्तुतः भारतीय ही थे। जब भी ब्रिटिश दूसरे किसी देश पर आक्रमण करते, तब भारतीयों का उपयोग करते थे। (इस परिमाण पर वे कभी ब्रिटिश साम्राज्य स्वयं नहीं बना पाते।) परिणाम स्वरूप, इन लाल नीले क्षेत्रों में काफी मात्रा में भारतीय जनता बसी हुई है।

The people who actually made this whole wide area of the British Empire were indeed the people of India. Whenever the British invaded another nation, they used Indians. (They could never have build such a massive British Empire by themselves.) As a result, there is an extremely large number of Indians living in these red and blue areas.

さて、この大英帝国のインド人達と、サンスクリット文化圏に住んでいる人たちが全て次の数年をサンスクリット語の習得に力を注いだらどういうことになると思いますか?そしてその期間に、現在の植民地政策を美化した欧米中心の歴史をサンスクリット文化圏中心の歴史に書き換えたら世界はいったいどうなるのでしょうか?

अब आप क्या समझते हैं, यदि ब्रिटिश साम्राज्य और संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल में बसे सारे भारतीय वंशज अगले कुछ बरसों के लिये संस्कृत भाषा में प्रवीण बनने पर ध्यान दें, तो क्या होगा? और यदि भारतीय विद्वानों ने इतिहास (जो कि यूरोप-केन्द्रित और विकराल रूप से मरोड़ा हुआ है) का संशोधन संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल की दृष्टि से करना शुरू किया तो? कल्पना कीजिये, दस बरस पश्चात् क्या होगा?

Now, what do you think will happen, if all people of Indian lineage residing in the British Empire and the Sanskrit Cultural Sphere spent the next few years concentrating on mastering the Sanskrit language? And, what if Indian scholars rewrote history (which is Euro-Centric and hideously distorted) from the point of view of the Sanskrit Cultural Sphere? What do you think would happen after, say, ten years?

古代、サンスクリット文化圏の人たちは国境もなく仲良く平和に暮らしていました。戦争もなく独裁者もいなかったのです。ですから、インド人がみなサンスクリット語と東洋を中心とした歴史研究を推奨していったら、自然に数年のうちに世界中が平和になると思うのです。

प्राचीन युग में संस्कृतनिष्ठ सांस्कृतिक मण्डल के जनजातियों के कोई राजनीतिक सीमाएं नहीं थीं, और वे शान्तिपूर्वक रहते थे, बिना कोई कलह और लड़ाई के। न युद्ध थे, न आततायी शासक। इसलिये मेरा यह विश्वास है कि यदि हम संस्कृत और प्राच्य-आधारित इतिहासलेखन को बढ़ावा दें, तो हम नैसर्गिक रूप से विश्व शान्ति की ओर बढ़ेंगे।

In ancient times, the people of the Sanskrit Cultural Sphere never had any political borders, and they lived peacefully without getting into fights and quarrels. There were neither wars nor dictators. For this reason, I believe that if we encourage Sanskrit and Eastern-based historical studies, we will naturally move towards world peace.

ラス・ビハリ・ボースが執筆した本はそんなことを理解させてくれるものです。

रास बिहारी बोस के प्रकाशन आपको मनुष्य जीवन के इस महत्त्वपूर्ण पक्ष का अनुभव कराएंगे।

The publications of Rash Behari Bose will make you realize this important aspect of human life.

インド国民軍 (स्वतंत्र भारत सेना – Indian National Army)

インド国民軍は、俗にINAと呼ばれ、スバス・チャンドラ・ボースと関連付けられています。そしてインド国民軍はAzad Hind Faujという名前を被せられて、自由インド仮政府軍と考えられています。

सामान्यतः स्वतंत्र भारत सेना (इंडियन नॅशनल आर्मी – INA) को सुभाष चंद्र बोस के नाम से जोड़ा जाता है। INA को फिर आज़ाद हिन्द फ़ौज से मिलाया जाता है, और स्वतंत्र भारत के अन्तःकालीन सरकार की सेना के रूप से भ्रमित किया जाता है।

The Indian National Army (INA) is typically spoken of in relation to Subhas Chandra Bose. The INA is then further overlapped with Azad Hind Fauj and is confused as being the army of the Provisional Government of Free India.

インド国民軍は、日本が1942年6月12日にラス・ビハリ・ボースをインド国民軍最高司令官と任命して作ることを日本が関与したものでした。

वास्तव में  INA को जापानी मार्गदर्शन और सुझावों के अनुसार १२ जून १९४२ में गठित किया गया था। जापान की यह भी अनुशंसा थी कि रास बिहारी बोस को INA का सर्वोच्च सेनाध्यक्ष नियुक्त किया जाए।

The reality is that the INA was formed as a result of Japanese guidance and suggestions made on June 12, 1942. It was also Japan’s recommendation that Rash Behari Bose be the Supreme Commander of the INA.

Azad Hind Faujを名乗るインド仮政府軍は、ラス・ビハリ・ボースの反対を押して1943年7月4日にスバス・チャンドラ・ボースが勝手に作ったものです。そして、そのAzad Hind Faujを名乗るインド国民軍は、ラス・ビハリ・ボースを最高司令官とするインド国民軍の看板を勝手にくっつけただけものでしかありませんでした。

भारत स्वतंत्रता संघ (इंडियन इंडिपेण्डेंस लीग – IIL) के संविधान का विरोध और रास बिहारी बोस के आदेशों का उल्लंघन करते हुए सुभाष चंद्र बोस ने स्वतंत्र भारत के अन्तःकालीन सरकार की सेना को ७ जूलई १९४३ को गठित किया। इस सेना का अस्तित्व नाम मात्र था। वह आगे जाकर रास बिहारी बोस के INA का नामान्तरण ही बना।

The army of the Provisional Government of Free India (Azad Hind Fauj) was founded by Subhas Chandra Bose on July 7, 1943, against the Constitution of the IIL and orders made by Rash Behari Bose. That army existed in name only. It was only another name assigned to Rash Behari Bose’s INA.

インド国民軍は、そもそも日本軍の捕虜となったインド兵に独立インドへの忠誠を誓わせて作ったものです。日本軍が武器弾薬、食料、特別待遇、兵舎その他を与えて、軍事訓練をしました。

INA वह सेना थी जो जापान में भारतीय युद्धबन्दीयों से बनायी गई थी, जिन्होंने अपनी मातृभूमि भारत के प्रति निष्ठा स्वीकारा और ब्रिटन को त्यागने से सहमति जताई। उनकी हर आवश्यकता की पूर्ति जापान ने किया, जिसमें अस्त्र-शस्त्र, संभार, वास, विशेष चिकित्सा आदि अन्तर्भूत थे, और सैन्य प्रशिक्षण भी।

The INA was an army consisting of Japan’s Indian prisoners of war who agreed to vow allegiance to their motherland India and give up Britain. Everything they needed, including weapons, ammunition, food, accommodation, special treatment, etc. was provided by the Japanese military, in addition to military training.

しかし、それは藤原岩市とモハン・シンという人物のためにだめにされました。この二名は二人それぞれ自分がインド国民軍の創始者だと言明して、そのために著書まで出しています。

जापान, रास बिहारी बोस और उषाद्वीप में बसे सारे भारतीयों के हर प्रयास के किये जाने पर भी INA को मुख्यतः दो व्यक्तियों ने बिगाड़ा – मोहन सिंह और फ़ुजिवारा इवाईचि। इन दोनों पुरुषों ने बाद में अलग-अलग पुस्तकें छापीं जिसमें हरेक यह कहता हैं कि वह स्वयं ही INA का संस्थापक था।

Despite efforts made by Japan, Rash Behari Bose, and all the Indians in Japan, the INA was ruined mainly by two individuals: Mohan Singh and Fujiwara Iwaichi. These two men later published books claiming that they each were the founders of the INA.

参謀長官モハン・シンは国民軍の兵隊の数を増やそうと監禁・拷問・銃殺などの虐待をしたので、ラス・ビハリ・ボースが参謀長官の地位を剥奪しました。

मोहन सिंह ने भारतीय सैनिकों पर कारावास, यातना, फाँसी आदि जैसी दानवी प्रताडना बरसाई, जिसकी अवेक्षा में रास बिहारी बोस को उन्हें सेना प्रमुख के पद से हटाने के अतिरिक्त और कोई चारा नहीं रहा।

Mohan Singh brutalised Indian soldiers through confinement, torture, execution, etc., and Rash Behari Bose had no choice but to remove him from his position as Chief of Staff.

藤原は彼なりのアジェンダがあったのですが、ここでは余分なので省略します。私の本に要約が書かれてありますので興味があったら読んでみてください。

फ़ुजिवारा का अपना अलग ही परोक्ष अभिप्राय था, जो कि सिंह के मनोरथ से भिन्न था। इसपर यहाँ अधिक विस्तार नहीं करूंगी, पर यदि आपको रुचि है तो मेरे पुस्तक में विवरण अंकित हैं।

Fujiwara had his own agenda, which was quite different from Singh. I will not elaborate on this here, but if you are interested, you can find it in my book.

1943年7月4日からラス・ビハリ・ボースに譲られてインド独立連盟総督になったスバス・チャンドラ・ボースはナチの軍服を誂え、ヒットラーになぞらえて、自らがインド帝国の総督になろうと暴走しました。

रास बिहारी बोस द्वारा भारत स्वतंत्रता संघ (IIL) के अध्यक्ष नियुक्त किये जाने पर सुभाष चंद्र बोस ने एक स्वयं ही रूपांकित विशिष्ट अधिकारी वेष मंगवाया, जो कि जर्मनी के नाज़ी गणवेष का सटीक अनुकरण था। इसे धारण करके सुभाष ने स्वतंत्र भारत का सैन्य अधिनायक बनने के सपने देखे।

After Subhas Chandra Bose was appointed President of the IIL by Rash Behari Bose, he ordered a uniform specially designed by himself, which is a perfect imitation of the Nazi uniform. Subhash, with this uniform, dreamed of becoming the military dictator of the Empire of Free India.

Subhash Chandra Bose in the uniform of his own design. (a close imitation of the Nazi uniform)

さて、ラス・ビハリ・ボースがインド国民軍を作った最大の目的は何だったと思いますか?

जब रास बिहारी बोस ने IIL और INA के सर्वोच्च अध्यक्ष बनने का जापान के सुझाव को स्वीकारा, तो आपकी मति में उनका मुख्य उद्देश्य क्या रहा होगा?

What do you think was the primary goal of Rash Behari Bose when he accepted Japan’s recommendation that he be the Supreme Commander of the IIL and INA?

それは、日本軍に捕まったインド兵を日本から優遇してもらう為だったのです。そして、当初のインド独立連盟の最大の目的は、東南アジアに住んでいる200万人程のインド人の命を守ることでした。

उनका मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि जापान के भाततीय युद्धबन्दीयों के साथ अधिमान्य रूप से व्यवहार किया जाए, गोरे ब्रिटिश बन्धकों से भिन्न। IIL का सबसे बड़ा उद्देश्य भारतीयों का क्षेम था (२० लाख भारतीय वहाँ बसे थे)।

His main purpose was to make sure that Japan’s Indian prisoners of war would be preferentially treated, differently from the White British soldiers. The most important objective of the IIL was to ensure the wellbeing of Indians (two million Indians were living there).

Rash Behari Bose in INA uniform

現在、インド国民軍といえば勇敢にイギリスに対して武力で戦った軍隊のようなことを想像している人がいますが、それは完全な間違いです。インド兵はイギリスの兵隊でしかなく、日本に攻撃をかけ、日本人を殺していたのです。インド独立ではなく、大英帝国に世界制覇をさせようと日本を潰すために戦っていたのです。

वर्तमान में भारत के नई पीढ़ीयाँ प्रायः सोचते हैं कि INA एक ऐसी सेना थी जिसने ब्रिटिश के विरुद्ध हथियार उठाया, परन्तु यह सरासर झूठ है। वे भारतीय सैनिक जिनको जापान ने बन्धक बनाया था वस्तुतः ब्रिटिश सैनिक थे जिन्होंने ब्रिटन से निष्ठा की शपथ उठाई थी। उनका काम उषापुत्रों पर प्रहार और उनका हनन था। वे भारतीय स्वतंत्रता के लिये नहीं लड़ रहे थे, अपितु जापान के विरुद्ध लड़ रहे थे जिससे कि आंग्ला जगत जापान का पूरा विनाश करके अखिल विश्व पर वर्चस्व प्राप्त कर सके।

Presently, many young generations of Indians seem to believe that the INA was an army that fought against Britain with weapons, but this is entirely false. Indian soldiers who were caught by the Japanese were British soldiers who vowed allegiance to Britain. Their job was to attack and kill the Japanese. They were not fighting for Indian independence, but were fighting against Japan so that Britain could completely destroy Japan and achieve world domination.

ラス・ビハリ・ボースと日本は、それが分かっていながらもできるだけ多くのインド人の命を救おうとしました。インド人達はイギリスに惑わされているだけだと信じていたのです。

रास बिहारी बोस और जापान को अच्छी तरह से संज्ञान था कि इन भारतीय सैनिकों का आशय जापान का नाश था, तथापि उन्होंने भारतीय प्राणों को बचाने का पूरा प्रयास किया। उनको पूरा भरोसा था कि ये भारतीय सैनिक केवल भटकाये गये लोग थे।

Rash Behari Bose and Japan were well aware that these Indian soldier’s intension was to destroy Japan, but even then, they tried their best to save Indian lives. They sincerely believed that the Indian soldiers were only misguided.

インド国民軍は出来るだけ多くのインド人の命を守るための組織でした。スバス・チャンドラ・ボースがそんなラス・ビハリ・ボースの偉業を利用して自分の夢を達成しようとしただけなのだということを知らない人がたくさんいます。そして、スバス・チャンドラ・ボースを総督にする軍事国家を作り上げることがインド人の総意であったかのような錯覚を起こしている若い人達がいるのは悲しいことです。

INA की स्थापना भी इस उद्देश्य से किया गया कि वह यथासंभव भारतीय सैनिकों के प्राण बचा सके। यही रास बिहारी बोस का सबसे बड़ा लक्ष्य था। आज बहुत लोगों को यह भान तक नहीं कि सुभाष चंद्र बोस ने भारत का सम्राट् बनने का अपने स्वानुरागी मनोरथ को साधने हेतु रास बिहारी बोस के भद्र प्रयासों का दुरुपयोग किया। नई पीढ़ी यह मिथ्या भी मानती है कि उस समय अधिकांश भारतीय चाहते थे कि सुभाष चंद्र बोस स्वतंत्र भारत के सैन्य राजतंत्र का अधिनायक बने।

The INA was established in order to save the lives of as many Indians as he could. This was Rash Behari Bose’s greatest goal. Many people now do not realize that Subhash Chandra Bose used Rash Behari Bose’s noble efforts to fulfill his own selfish desire of conquering India. Some of the recent generations even falsely believe that most Indians at that time wanted Subhash Chandra Bose to be the dictator of a militaristic state of Free India.

インド国民軍は戦闘を仕掛けるための軍隊ではなく、スバス・チャンドラ・ボースを喜ばせる軍隊でもありませんでした。インドの人々の命を守るための軍隊だったのです。

INA का प्रयोजन न ही किसी दूसरे देश से लड़ने का था और न ही सुभाष चंद्र बोस के इच्छाओं की पूर्ति करना। उसका प्रयोजन केवल भारतीय जनता का सेना के रूप में सामने आना था।

The purpose of the INA was neither to fight against another nation, nor to satisfy the desires of Subhash Chandra Bose. Its purpose was to be a military for the people of India.

そして、その事に関しては日本が十分に尊重していて、インド国民軍は、インド人の命を守り、インドをイギリスから独立させるために日本がラス・ビハリ・ボースをインド国民軍最高司令官として作った軍隊だったのです。

जापान ने यह बात को पूरी तरह से समझा। जापान ने रास बिहारी बोस को सर्वोच्च अध्यक्ष इसलिये नियुक्त किया कि वह भारतीय जनता की रक्षा कर सके और भारतीयों को ब्रिटन के दस्यु राज से छुटकारा दिला सके।

Japan understood this perfectly. Japan appointed Rash Behari Bose as Supreme Commander in order to protect the Indian public and to help Indians become independent of Britain’s evil rule.

ラス・ビハリ・ボースは自分と自分の家族を犠牲にしてまでインド独立に自分の命をかけました。その一方で、スバス・チャンドラ・ボースは沢山のインド人の命を犠牲にして自分がインド総督になろうとしました。

रास बिहारी बोस ने अपने प्राण बलिदान दिये, और अपने कुटुम्बीयों के भी। इसके व्यतिरेक में, सुभाष चंद्र बोस ने सैंकड़ों भारतीय प्राणों की आहुति से अपने आप को भारत का अधिनायक बनाने का प्रयास किया।

Rash Behari Bose sacrificed his own life as well as his own family’s. In contrast to this, Subhash Chandra Bose sacrificed many Indian lives and tried to make himself the dictator of India.

スバス・チャンドラ・ボースをインド最高のインド独立の英雄と考える人はそれでもいいのです。でも、ラス・ビハリ・ボースとスバス・チャンドラ・ボースの違いを認めてからスバス・チャンドラ・ボースを讃えてほしいものです。

यह ठीक है कि लोग भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष का परम सूरमा के रूप में सुभाष चंद्र बोस की स्तुति करते फिरें। परन्तु मैं चाहती हूँ कि वे उनकी स्तुति यह बात सच्चाई और प्रामाणिकता से जानकर करें कि रास बिहारी बोस और सुभाष चंद्र बोस में क्या अन्तर था।

It is fine for people to admire Subhash Chandra Bose as the supreme hero of Indian independence. However, I would like them to praise him bearing an honest and true understanding of the difference between Rash Behari Bose and Subhash Chandra Bose.

兵隊 (सैनिक – Soldiers)

大東亜戦争では、インドや東アジアの愛国者たちは日本と力を合わせて、欧米の植民地政策に対して戦いました。戦争といえば、兵隊と兵隊が戦うもので、非戦闘員である民間人、ましてや女子供や老人などは虐殺しないのがこの大東亜戦争の前の戦争までの常識でした。

वृहत्तर पूर्वी एशियाई युद्ध में भारत और पूर्वी एशिया के राष्ट्रवादियों ने जापान के साथ यूरोपीय और अमेरिकी उपनिवेशवाद से लड़ाई की। इस युद्ध से पहले एक नैतिक मानक हुआ करता था कि युद्ध केवल सैनिकों के बीच लड़े जाते हैं। आम नागरिक, विशेषकर स्त्री, बाल और बूढ़े इस नृशंसता के पात्र सर्वथा नहीं बनाए जाते थे।

During the Greater East Asia War, the patriotic people of India and East Asia, together with Japan, fought against European and American colonialism. Until this war occurred, there had been a moral standard that wars were only to be fought between soldiers. No civilians, and most certainly not women, children and the elderly, would ever have been the targets of atrocity.

しかし、大東亜戦争では、連合軍はこの決まりを破りました。無差別大虐殺を働き、相手国の国土を焦土化し、滅多矢鱈な環境破壊をした者たちが勝者となることになりました。

परन्तु बृहत्त पूर्वी एशियाई युद्ध में ब्रिटन और अमेरिका ने यह मानवीय नीति को तोड़ दिया। उन्होंने एक नई नीति गढ़ी, कि सभ्यता और प्रकृति का सबसे बड़ा विनाशक और हत्यारा युद्ध का विजेता होगा।

However, Britain and America broke this human rule during the Greater East Asia War. They made a new rule that the winner of a war would be the biggest murderer and destroyer of civilization and nature.

残酷なら出来るだけ残酷な方がいい、嘘は大きければ大きいほどいい、ちょっと潰すより壊滅させたほうがいいというのが大東亜戦争以降の常識です。

बृहत्तर पूर्वी एशियाई युद्ध के पश्चात् नई सम्मति कुछ ऐसी है कि प्रहार जितना क्रूर उतना ही अच्छा, झूठ जितनी बड़ी उतना ही प्रभावी, और विनाश को आंशिक नहीं पूर्ण होना चाहिये।

Since the Greater East Asia War, the consensus is the crueler the better, the bigger the lie the better, and destruction should not be partial, but absolute and complete.

さて、大東亜戦争に係わった兵隊たちの質の違いについて考えてみたいと思います。

आइये देखते हैं कि बृहत्तर पूर्वी एशियाई युद्ध में किस प्रकार के सैनिक नियुक्त थे।

Let us consider the kind of soldiers who were engaged in the Greater East Asia War.

日本では誰でも兵隊になれるというものではありませんでした。検査をして試験をして兵隊を選りすぐりました。その上、教育・訓練期間がありました。それが済むまでは戦争に送られませんでした。つまり、日本の兵隊は健康で、明晰で、教育があり、技術があり、道徳観念も高かったのです。犯罪者などが兵隊になることなどありませんでした。日本と自分の家族をを外敵から守るということが絶対的使命でしたから、犯罪者の手に国防を委ねるなどもっての外なのです。

उषाद्वीप में हर कोई सैनिक नहीं बन सकता था। उनकी कड़ी चिकित्सा जाँच, परीक्षण और पृष्ठभूमि की पड़ताल होती थी। सेना में भर्ती के बाद, विस्तृत शिक्षण प्रशिक्षण ले चुकने पर अन्ततः उनको रणभूमि में भेजे जाने की अनुमति मिलती थी। सो उषापुत्र सैनिक साधारण रूप से स्वस्थ, तेजस्वी, शिक्षित, सुजान और उँचे नैतिक मूल्यों वाले थे। अपराधी कभी सैनिक नहीं बन सकते थे। जापानी भटों का धर्म उषाद्वीप और उषापुत्रों को आक्रमणकारियों से बचाना था। सो अपने ही समाज से अपराध करने वालों को देश और जनता की रक्षा का दायित्व सौंपने का प्रश्न उठता ही नहीं था।

In Japan, not just anyone could become a soldier. They had to go through strict check-ups, examinations and a background check. After being accepted into the military, they had to go through extensive education and training. It was only after then, that they were allowed to be sent to the war. So, Japanese soldiers were typically healthy, bright, educated, skillful, and possessed high moral standards. Criminals could never become soldiers. The mission of Japanese soldiers was to protect Japan and the Japanese people from invaders. So, it was out of the question for the military to entrust criminals with the protection of the nation and the public.

Japanese soldiers

欧米では犯罪者、特に殺人鬼などの特別軍団を作り、それを第一線に送るのが常道でした。彼らの考えは今でもそうです。ですから、欧米の兵隊は平気で虐殺・強盗・放火・強姦を働くのです。それは今でもそうですし、将来もそうでしょう。今でもコンピューターゲーム等に殺人や戦争が多く、子供に殺人ゲームを通して破壊的な性格を育てています。欧米は他国の侵略の為にだけ戦争をしますから、他国民に対して残虐ならそれは英雄的行為だと見るのです。

पश्चिमी देशों में घोर अपराधियों और हत्यारों का एक विशेष निकाय गठित करना सामान्य बात थी, और नासीर को रूप में रण में अग्रसर भेजे जाते थे। यह आज भी प्रचलित है। यही कारण है कि पाश्चात्य सैनिक मनोरोगी उन्मत्तों की तरह नरसंहार, लूट-खसोट, दाहकार, बलात्कार, आदि में निरत पाए जाते हैं। उस समय भी ऐसा था, आज भी है और कल भी चलता रहेगा। आजकल तो सांगणिक क्रीडाएँ भी हत्या और युद्ध से विद्रूपित हैं, जिससे लड़कों को लहु-लिहान क्रीडा की रुचि चखाई जाती है, और विनाशकारी मनुष्य बनाये जा रहे हैं। पश्चिम में युद्ध का उद्देश्य दूसरे देशों पर आक्रमण और ध्वंस करना होता है। इसीलिये परदेसियों पर अत्याचार और नृशंसता उनके यहाँ वीरता मानी जाती है।

In Western nations, it was standard to make a special corps consisting only of serious criminals and murderers, and to send them to the war front. This is still the case even to this day. This is the reason why Western soldiers psychopathically engage themselves in mass-murdering, robbery, arson, raping, etc. It was like that then, it is so even now, and it will continue to be so. These days, even computer games are full of murdering and waring, teaching children to enjoy murder games and creating destructive humans. In the West, they engage in war in order to invade and destroy other nations. That is why they view committing cruelties and atrocities on people in foreign lands to be a heroic deed.

インドや東アジアでは白人に雇われて戦った傭兵が多かったです。自分の国は欧米植民地政策で乗っ取られているから、自分を守るなどという選択肢はなかったのです。日本のように自分の国や親兄弟を守るのではなく、欧米に雇われて、他国・他人種(白人)の為に戦いました。

भारत और पूर्वी एशिया में कई लोग गोरों की सेवा में वेतनभोगी सैनिक बने। अपने ही देश की रक्षा करना उनके लिये विकल्प नहीं रहा क्योंकि उनकी मातृभूमि गोरों के हाथों में सामन्त-उपनिवेश बन चुकी थी। वे उषापुत्रों की तरह नहीं थे, जो कि अपने परिवारों, मित्रों और राष्ट्र की रक्षा के लिये लड़ने निकलते थे, वरन् ये लोग जीविका के लिये सैनिक बनते थे, दूसरे देशों और कुल-जाति (श्वेत) के लाभ के लिये किराये के भट।

In India and East Asia, many fought as mercenaries for Whites. They did not have the option of defending their own nations because their motherland was a colony in the hands of White invaders. Unlike Japanese who went to war to protect their own families, friends and nation, they fought for money, hired to fight for the interests of other nations and another race (Whites).

それを日本は理解していて、イギリス軍のインド兵が捕虜になれば、敵兵と見做さず、武器弾薬や食料を与え、軍事教育をしてインドに忠誠を誓わせ、イギリスからのインド独立に専念するようにしむけました。

जापान यह अच्छी तरह समझता था। इसीलिये जब कभी भारतीय सैनिक युद्ध-बन्दी बनते थे, जापानी उनसे शत्रु-सैनिक जैसा बरताव नहीं करते थे। उन्हें सशस्त्र और सुप्रशिक्षित करके उन्हें माँ भारती की शपथ दिलाई जाती थी (जापान की नहीं)। जापान ने ब्रिटन से लड़ने में मार्गदर्शक का दायित्व निभाया जिससे स्वतंत्र भारत की स्थापना हो सके।

Japan knew this very well. So, when Indian soldiers became prisoners of war, Japanese never regarded Indians as their enemies. They armed them, gave them food and military training, and made them vow allegiance to their mother India (not Japan). Japan guided them to fight against the Britain and establish a free India.

このような日本の努力はインドネシアでは成功しました。日本軍に軍事教育を受けたインドネシア人達は自分の手でオランダ人を追い出すことに成功しました。1949年12月に独立するまで日本軍の兵隊たちはインドネシアに残って一緒に独立戦争を戦いました。

इस प्रकार का जापानी प्रयास इंदुनीशिया में सफल रहा। जापानियों द्वारा प्रशिक्षित और समर्थित, इंदुनीशियाई लड़ाकू डच उपनिवेशवादियों को स्वयं खदेड़ने में योग्य निकले। जापानी सैनिकों ने इंदुनीशिया में ठहरकर दिसंबर १९४९ में इंदुनीशिया की मुक्ति तक उनके सहयोगी दल बने रहे।

This kind of Japanese effort was successful in Indonesia. Being trained and supported by Japanese, Indonesians managed to expel the Dutch by themselves. Japanese soldiers remained in Indonesia and fought with Indonesians until independence was secured in December 1949.

インドの場合はインドネシアとは違いました。インド人には、根本的にイギリス人達が多かったのです。そんな人達は日本人を騙して、利用し、機を見てイギリスに寝返ることに専念しました。

किन्तु भारत कुछ अलग ही निकला। वहाँ कुछ अधिक ही मात्रा में भारतीय लोग दिल से ब्रिटिश थे। ऐसे लोगों ने जापान को धोखा दिया, अपने निजी और ब्रिटिश लाभ के लिये जापान का दुरुपयोग करके सैंकड़ों जापानी सैनिकों को मृत्यु की आग में झोंक दिया, और ठीक अवसर पाते ही जापान से घात करके ब्रिटिश पक्ष की ओर भाग निकले।

India was different, however. There were too many Indians who were British at heart. Those people deceived Japanese, used Japanese for their personal and British gain, drove massive Japanese soldiers to their death, and chose the best time to betray Japan and run off to the side of the British.

1945: Queen Elizabeth (1900 – 2002), Queen Consort to King George VI visiting soldiers released from German prisoner-of-war camps and resting in Britain on their way home to India. (Photo by Central Press/Getty Images)

日本軍はインド兵の捕虜に武器弾薬を与え、軍事教育を与えてインド独立軍を作りました。目標はインド人の戦闘力を強くすることにあり、彼らを戦闘に使うこと自体は計画に入っていませんでした。

जापानी सेना ने भारतीय युद्ध-बंदियों को शस्त्र, गोला-बारूद और प्रशिक्षण दिलाया, और आज़ाद हिन्द फ़ौज के निर्माण में सहयोग किया। किन्तु जापान ने कभी उनको जापान की सेवा में उपयोग करने की योजना नहीँ बनाई। वे केवल उनको स्वदेशहित में लड़ने के योग्य बनाना चाहते थे।

Japanese military gave Indian prisoners of war weapons, ammunition, and military training, and helped build the Indian National Army. However, Japan never had a plan of using them as fighting force for Japan. They only wanted them to be capable of fighting for India.

スバス・チャンドラ・ボースがインド国民軍を引き受けた時、彼は訓練をしようもないような民間人を性別も関係なく取り込み、兵隊の数を大きく増やしました。正確な数は秘密にして、数を大きく見せられるだけ見せて、食料、宿舎、経費などを日本軍に要求しました。日本はABCD包囲網のおかげで十分な武器も燃料も食料もなかったころのことです。

जब सुभाष चन्द्र बोस ने आज़ाद हिन्द फ़ौज की लगाम अपने हाथ में ली, तब उन्होंने सैनिकों की संख्या में भारी वृद्धि करने होतु बिना किसी लिङ्ग, वय या शारीरिक योग्यता का भेद किए किसी भी आवेदक को जोड़ने की अनुमति दी। उन्होंने सैनिकों की सटीक संख्या को गुप्त रखा, और जापानी सहायकों से जितना हो सके उतना संभार, आवास और धन की उगाही के आशय से यथासंभव उस संख्या को बढ़ा-चढ़ाकर बताते रखा। ऐसा वे तब भी करते रहे जब जापानियों के पास स्वयं अपने लिये पर्याप्त शस्त्र, इन्धन और संभार नहीं था, क्योंकि उनके व्यापार-मार्गों को अमेरिकी, ब्रिटिश, चीनी और डच दलों ने काट दिया था।

When Subhash Chandra Bose took over the Indian National Army, he drastically increased the number of soldiers by letting anybody join the army, irrespective of gender, age and physical ability. He kept the exact number of soldiers secret and padded up the number as much as he could, with the intention of usurping as much food, lodging, money, etc. as possible from Japan. This he did when the Japanese did not even have enough weapons, fuel, and food for themselves, as their trade routes had been severed by Americans, British, Chinese and Dutch.

スバス・チャンドラ・ボースは独身のふりをしていた上、魅力的だったので、若い女性が沢山志願しました。インド国民軍の兵士は大半が軍事訓練無しでした。戦闘員としては全然能力もなかったし期待されてもいませんでした。ただのフィラーだったのです。

सुभाष चन्द्र बोस मनमोहक थे, और अपने विवाह की बात छुपाकर कई युवतीयों को भर्ति होने को आकर्षित किया। उनके नेतृत्व में अधिकांश आ.हि.फ़ौज के सैनिकों को कोई प्रशिक्षण नहीं दिया गया। सीधे खड़े होकर मानवन्दन करने, और कदमताल चलने के अतिरिक्त उनसे और कोई अपेक्षा नहीं रखी जाती थी। लगता था कि बस जापान से धन की उगाही के लिये ही ये लोग पद-पूरक थे।

Subhas Chandra Bose was charismatic, hiding that he was married, and attracted many young women to enlist. Under him, most of the INA soldiers were not given any military training. They were not expected to do much more than stand straight, salute and march. They were only fillers to usurp money from Japan.

だからこそ、日本が戦闘を止めたときにさっさと自国に戻って、結局はイギリス人の元での平常な生活に戻ったのです。中には欧米に目をかけられて出世した人達もたくさんいました。

ऐसी स्थिति में जब जापान ने युद्धविराम किया तब कई आ.हि.फ़ौजीयों ने तुरंत घर लौटकर ब्रिटिश के अधीन सेवादारों का जीवन फिर से आरंभ किया। उनमें से कई लोगों को अच्छी नियुक्ति भी मिली, क्योंकि ब्रिटिश और अमेरिका ने उनके प्रति पक्षपात दिखाया।

That being the case, when Japan ceased fire, many of the INA soldiers immediately went back home and resumed their life under the British colonists. Many of them got good jobs, as they were favoured by British and Americans.

インド人とインドネシア人には雲泥の差があります。インドネシア人は母国を愛し5年近く戦争をしてオランダ人を追い出しました。彼らは母国のために強い兵隊になるため日本人に軍事訓練を受けることを好みました。一方で、スバス・チャンドラ・ボースが統率したインド国民軍の兵隊たちは、軍事訓練を受けることを拒み、インド独立を阻み、イギリス側に逃げ込む機会を狙っていただけだったのです。

भारतीय और इंदुनीशियाई में बड़ा अन्तर था। इंदुनीशियाई अपने मातृभूमि के निष्ठावान थे और पाँच बरस तक डच उपनिवेशवादियों को मार भगाने के लिये लड़े। वे चाहते थे कि जापानी उनको प्रशिक्षण दें जिससे कि वे बलिष्ठ योधा बनकर स्वयं लड़ना सीखें। दूसरी ओर, सुभाष चन्द्र बोस के नेतृत्व में आ.हि.फ़ौजीयों ने सैन्य प्रशिक्षण को ठुकराया, भारतीय स्वतंत्रता के प्रति हर चेष्टा में अंतर्ध्वंस मचाया, और मात्र ब्रिटिश पक्ष की ओर दल बदलने के सुअवसर की प्रतीक्षा करते रहे।

There is a big difference between Indians and Indonesians. Indonesians were loyal to their own motherland and fought for five years to expel their Dutch colonizers. They wanted the Japanese to train them, so that they could become strong soldiers themselves and learn how to fight. On the other hand, INA soldiers under Subhas Chandra Bose refused military training, tried to sabotage any efforts towards Indian independence, and were simply waiting for a good opportunity to go to the side of the British.

ラス・ビハリ・ボースの愛称 (रास बिहारी बोस का उपनाम – Rash Behari Bose’s Nickname)

ラス・ビハリ・ボースが日本に行った頃は、まだ日本人はインドのことを古来からの習慣で天竺と呼んでいました。それを知ったボースは、「僕は天竺から来たのだから天来ですね」と洒落たことを言いました。それ以来ボースを慕って集まってくる人たちは彼を「天来先生」と呼び、ボースもその名が気に入って使っていました。

जब रास बिहारी बोस उषाद्वीप में रहते थे, तब भी जापानी लेग भारत को तेनजिकु कहा करते थे। यह जानकर बोस ने विदग्ध परिहास में कहा, “मुझे अपने आप के तेन-राय कहना चाहिये क्योंकि मैं तेन-जिकु से हूँ।” तब से आगे चलकर कई लोग उन्हें “तेनराय सेनसेई” बुलाने लगे। बोस को यह उपनाम इतना भा गया कि उन्होंने अपने कई कलाकृतियों में इसी का उपयोग किया।

At the time that Rash Behari Bose began living in Japan, Japanese were still calling India, Tenjiku. Upon learning that, Bose said wittily, “I should call myself Ten-rai because I came from Ten-jiku.” From that time forward, many people around him began calling him “Ten-rai Sensei”. Bose also was fond of this nickname and used it in many of his artistic works.

中にはボース先生と呼んだり、ボースくんと呼ぶ人もいました。時々まちがってボーズなどと呼んだり書いたりする人もいました。日本にはボースと言えばラス・ビハリ・ボースしかいませんでした。

कुछ उषापुत्र रास बिहारी बोस को बोसु सेनसेई (“उपाध्याय”) या बोसु-कुन बुलाते थे। कुछ लोगों ने त्रुटि से उनका नाम बो-ज़ु लिखा है (जापानी भाषा में “भिक्षु”)। पर उषापुत्रों के लिये केवल एक हि बोस था, और वह थे रास बिहारी बोस।

Some Japanese called Rash Behari Bose, Bōsu sensei (“teacher”) or Bōsu-kun. Some people mistakenly wrote his name as Bō-zu (the Japanese word for “monk.”) To the Japanese, there was only one Bose, and it was Rash Behari Bose.

Rash Behari Bose

ラス・ビハリ・ボースは日本で大変有名な人物で日本の新聞にもよく書き立てられていました。ボースが日本に亡命してきた1915年から彼が亡くなった1945年までの30年間ラス・ビハリ・ボースは話題の人で、日本にいるインド人の中では日本人に最高に尊敬され親しまれた人物でした。

उनके प्रवासकाल में रास बिहारी बोस उषाद्वीप में अत्यंत हि विख्यात व्यक्ति थे, और उनके लेख बहुवार समाचारपत्रों में पाये जाते थे। १९१५ में उषाद्वीप को पलायन से लेकर १९४५ में उनकी मृत्यु तक, रास बिहारी बोस एक खलबली मचाने वाले व्यक्तिविशेष रहे, जिसकी चर्चा जापानियों में बहुत होती थी। जापानी हृदय में वे दूर दूर तक सबसे सम्मानित और लोकप्रिय भारतीय थे।

In his times, Rash Behari Bose was a very famous person in Japan, and his articles were often found in newspapers. Between the time that he fled to Japan in 1915, and his death in 1945, Rash Behari Bose was a sensational figure who Japanese spoke of very much. He was by far the most respected and loved Indian in Japan.

その一方、スバス・チャンドラ・ボースは1943年から1945年にかけて日本と東南アジアを数回行き来しただけの人でしかありませんでした。彼の存在はマラヤ、タイ、シンガポールにあり、あまり日本人には馴染みのない存在でした。ですから、ラス・ビハリ・ボースと彼を比較し、見分けるための愛称など必要ありませんでした。

दूसरी ओर, सुभाष चंद्र बोस एक ऐसे भारतीय थे जिन्होंने १९४३ और १९४५ के बीच चंद अवसरों पर जापान का अल्पकालीन दौरे किया था। वे अधिकतर मलय, थाईदेश और सिंहापुर में थे, और जापानियों के साथ घनिष्ट संबंध नहीं रखते थे। इसीलिये उषापुत्रों को रास बिहारी बोस और सुभाष चंद्र बोस के बीच भेद करने की कोई आवश्यकता हि नहीं पड़ी।

On the other hand, Subhas Chandra Bose was an Indian who visited Japan only briefly, on several occasions between 1943 and 1945. He was in Malaya, Thailand or Singapore, and was not closely associated with Japanese. Therefore, for Japanese, there has never been any necessity whatsoever to differentiate Rash Behari Bose from Subhash Chandra Bose.

天来の他に、ラス・ビハリ・ボース自身が使っていた名前は、印度人・ボースで、これを著者名に使ったりしていました。

तेनराय के अतिरिक्त, रास बिहारी बोस ने एक और नाम “इन्दो बोस” का उपयोग अपने प्रकाशनों में किया है।

Other than Tenrai, Rash Behari Bose used another name, “Indo Bose” in his publications.

彼が日本国籍を取得した時に登録した戸籍名は防須ラスビハリです。防須という名字は息子の正秀によって継がれましたが、正秀が戦死したため、消滅しました。

जब वे जापानी नागरिक बने, तब अपने कोसेकि (कुटुंबी पंजी) में उन्होंने नाम 防須ラスビハリ अंकित किया। उपनाम 防須 के उत्तराधिकारी उनके पुत्र मासाहिदे बने। किन्तु जब मासाहिदे युद्ध में दिवंगत हुए, तब वह उपनाम लुप्त हो गया।

When he became a Japanese citizen, the name that he registered in his koseki (family register), was 防須ラスビハリ. The surname 防須 was succeeded by his son Masahide. However, it ceased to exist when Masahide died in the war.

ですから、ラス・ビハリ・ボースは、ボース先生か天来先生と呼ばれ、自分は印度人・ボースかラス・ビハリ・ボースという名前を使い、戸籍名は防須ラスビハリだったというのが事実です。決して中村屋のボースなどと呼ばれてはいませんでした。

संक्षेप यह कि रास बिहारी बोस को बोसु सेनसेई या तेनराय सेनसेई बुलाया जाता था। उन्होंने स्वयं ラス・ビハリ・ボース या भारतीय बोस का उपयोग किया। उनका कोसेकि नाम 防須ラスビハリ था। उनको कभी भी नाकामुराया का बोस नहीं बुलाया गया।

To sum it up, Rash Behari Bose was called Bōsu Sensei or Tenrai Sensei. He himself used ラス・ビハリ・ボース or Indian Bōsu. His Koseki name was 防須ラスビハリ. He was never known as Bose of Nakamuraya.

Rash Behari Bose’s grave

中村屋のボースという呼称はラス・ビハリ・ボースが亡くなってから60年後の2005年に中島岳志が彼の著作物のタイトルとして付けたものです。ラス・ビハリ・ボースとも当時の日本人社会とも関係ありません。それに、中村屋という名前も当時は東京でこそ有名でしたが、決して日本全国に知れ渡っている名前ではありませんでした。中村屋が全国的にレトルト「カリー」で知られるようになったのは、2005年に中島岳志が「中村屋のボース」を出版してからです。

“नाकामुराया का बोस” का बनावटी उपनाम तो २००५ में नाकाजीमा ताकेहाशी ने अपने पुस्तक में प्रसारित किया, रास बिहारी बोस के मृत्यु के ६० बरस बाद। इस नाम का रास बिहारी बोस या तत्कालीन जापानी लोगों से कोई संबंध नहीं। सबसे बड़ी बात यह है कि उस समय नाकामुराया नामक संकाय केवल तोक्यो में प्रसिद्ध था, देश-भर में नहीं जैसे कि आज है। वह देशभर में प्रसिद्ध अपने थैली-धान करी के कारण बना, २००५ में “नाकामुराया का बोस” के प्रकाशन के पश्चात्।

The nickname “Bose of Nakamuraya” was established by Nakajima Takeshi as title of his book in 2005, 60 years after the death of Rash Behari Bose. It has no connection with Rash Behari Bose or the Japanese people of that time. Above all, unlike what it is today, the company Nakamuraya was famous only in Tokyo, but not nationwide. It became known throughout Japan with their product of retort curry after “Bose of Nakamuraya” was published by Nakajima Takeshi in 2005.

当時の中村屋が東京の一部でだけ知られた名前だったのに比べ、ラス・ビハリ・ボースは全国的に有名な人物でした。当時、日本ばかりではなく世界中に名が響き渡っていた人物であったことも付け足しておきます。この事実は、当時の新聞をくまなく見てみれば簡単に分かることです。この世界的に有名な人を、東京の人しか知らない会社の名前にくっつけて呼ぶはずはないのです。

जब रास बिहारी बोस जीवित थे, तब नाकामुराया केवल तोक्यो के कुछ समूहों में जाना-माना था, जापान के दूसरे जगहों में नहीं। इसके व्यतिरेक, रास बिहारी बोस पूरे जापान में (और विश्वभर में) एक बड़ा नाम था। तत्कालीन समाचारपत्रों के अवलोकन से यह बात सरलता से सत्यापित होता है। ऐसे विश्व-विख्यात महान व्यक्ति की पहचान को मात्र तोक्यो में जाना-पहचाना किसी छोटे-मोटे समकाय के नाम से जोड़ना बोतुकी बात है।

At the time that Rash Behari Bose was alive, Nakamuraya was well known only among some people in Tokyo but not in other parts of Japan. In contrast, Rash Behari Bose was a big name throughout Japan (and worldwide). This can easily be seen by looking through the newspapers of that time. It is absurd to identify this great man, Rash Behari Bose, who was known worldwide, with a company name which was known only to the local people of Tokyo.

日印友好関係 (भारत और उषाद्वीप की मैत्री – The Friendship between India and Japan)

「日本とインドとは太古から強い繋がりがあります。仏教がインドから日本に渡ったのは538年と言われ、、、」

“उषाद्वीप और भारत दोनो के प्राचीन युग से गहरे संबंध रहे हैं। भारत से बौद्ध परंपरा सं. ५३८ ई. में उषाद्वीप आ पहुंचा…”

“Japan and India have had strong connections since ancient times. Buddhism arrived in Japan from India in 538…”

このような言葉を繰り返されると、インドと日本はずっと外交があったような錯覚をうけてしまいそうです。しかし、今のインドと日本の国交が樹立されたのはつい最近のことなのです。1952年8月27日に日印平和条約が発効し、そして始めて日本とインドが付き合うことになりました。つまり、日印友好関係はほんの68年足らずのものなのです。

ऐसी निरन्तर दोहराये जाने वाली बातों को सुनकर हम भ्रमित होकर सोचने लगते हैं कि जापान और भारत की सदा मित्रता हि रही है। किन्तु वास्तव में जापान और इंडिया अचिर हि मित्र बनें। २७ अगस्त १९५२ को जापान-इंडिया शान्ति संविदा पर हस्ताक्षर डाले गये, और तभी से जापान और इंडिया दोस्त बनें। संक्षेप में, उषाद्वीप और इंडिया की मैत्री संबंध ६८ वर्ष से छोटी अवधि की है।

When we hear this kind of statement, which is continually repeated, we become confused and begin to think that India and Japan have always enjoyed friendship. However, in truth, Japan and India became friends very recently. It was on August 27, 1952 that the Japan-India Peace Treaty was signed, and only since then have Japan and India become friends. In short, the amicable relationship between Japan and India is less than 68 years old.

1947年までインドはイギリス領インド帝国の一部で、つまりイギリスの一部だったことは皆知っています。現在のインドは、イギリスの女王を頭にしたイギリス連邦の一部として存在していて、本質的には未だにイギリス帝国の一部であることを私達はつい見過ごしがちです。

हम सब यह जानते हैं कि इंडिया ब्रिटिश साम्राज्य का भाग था, अतः वह ब्रिटिश था। आधुनिक इंडिया भी ब्रिटिश राष्ट्रमण्डल में भागीदार है, जीसकी मुखिया आंग्लदेश की रानी है और इंडिया यह स्वीकारती है। हम इसे अनदेखा करते हैं, पर इंडिया अभी भी ब्रिटिश साम्राज्य का सदस्य है।

We all know that India was a part of the British Indian Empire, and hence, that they were British. Present day India is part of the British Common Wealth of Nations, and maintains the Queen of England as its head. We tend to overlook this, but India is still a member of the British Empire.

そのようなインドとは違って、日本は太古の昔から存在した世界で一番古い国です。1945年から1952年の7年間イギリスやアメリカを主にした連合国に占領されましたが、一応未だに国として存在しています。

इसके विपरीत, उषाद्वीप विश्व के सबसे पुरातन सभ्यताओं में से एक है, जो आज तक चलती आ रही है। यद्यपि जापान पर अभिसन्धित राष्ट्रों ने १९४५ से १९५२ तक ७ वर्ष के लिये अधिग्रहण किया, फिर भी वह किसी तरह ब्रिटिश साम्राज्य से अलग हि अपनी अस्तित्व रखता आया है।

In contrast, Japan is one of the oldest nations in the world which has been continuing since ancient times, until today. Although Japan was occupied by the Allied nations for 7 years between 1945 and 1952, it somehow still exists separately from the British Empire.

つまり、日本とインドと古い繋がりがあると言えるのは、日本が存在し続けたからこそ言える錯覚でしかないのです。実際はインドは1947年に出来た大変新しい国であり、その前に続いた侵略の歴史の前にあったインドとはかなり異なっています。この事実をはっきりさせることは思いの外重要なのです。

अतः, यह सोचना कि इंडिया और जापान एक लंबी इतिहास के साझेदार हैं मात्र भ्रम हि है। ऐसा केवल इसलिये लगता है क्योंकि इंडिया के कुछ संकेत जापान के प्राचीन संस्कृति में दीखते हैं। सच तो यह है कि जो इंडिया आज देखने में मिलता है, वह एक नव निर्मित समाज है जो कि कुछ हि बरस बीते, १९४७ में स्थापित हुआ। यह नया देश उस प्राचीन भारत से अत्यंत भिन्न है जो पाश्चात्य आक्रमण से पहले विद्यमान था। संप्रदायिक भारत और इस नये इंडिया का भेद करना बहुत ही विवेकशील महत्व रखता है।

Therefore, it is only confusion to think that India and Japan share a long history. It seems that way only because some traces of India are visible in the ancient culture of Japan. The truth is that India as it exists today is only a very new country which was established in 1947. This new nation is extremely different from ancient India as it was before western invasion. It is important to distinguish the difference between traditional India and the new India.

ここで、ラス・ビハリ・ボースが命をかけたインド独立は失敗に終わってしまったということをはっきりさせなくてはなりません。今のインドはイギリスの傘下にある自治国でしかありません。それが証拠に、1945年まで必死に日本で日本と一緒に戦ったインド独立の英雄たちは抹消されてしまったのです。現在のインド人は日本で戦い、そして亡くなっていったインドの雄姿たちがいたことすら忘れてしまっています。

इस मोड़ पर स्पष्ट कर दूँ कि जिस स्वतंत्रता के लिये रास बिहारी बोस ने अपने प्राण न्यौछावर किये थे, वह सचमुच विफल रहा। जो इंडिया आज जीवंत है, वह सही समझ में ब्रिटन का केवल उपराज्य है। आज के इंडियन लोग इस बात से सरासर अनभिज्ञ हैं कि सहस्रों ऐसे भारतीय स्वतंत्रता संग्रामी थे जिन्होंने मातृभूमि के लिये प्राण नौछावर करके उषाद्वीप पर देह त्यागे। इसका ठोस प्रमाण यह है कि भारत के जिन क्रान्तिकारियों ने जापान में संघर्ष किया, और उषापुत्रों के साथ कंधे मिलाकर पाश्चात्य देशों से लड़े, वे सब के सब इंडिया के सार्वजनिक स्मृति पटल से मिटा दिये गये हैं।

At this stage, I would like to clarify that the Indian independence that Rash Behari Bose sacrificed his life for, indeed ended in failure. The India that is surviving now is only a dominion of Britain in true sense. Present Indians are completely oblivious about the fact that there were hundreds and thousands of Indian freedom fighters who sacrificed their lives for their motherland and died in Japan. This is evidenced by the fact that all of the Indian freedom fighters who fought for independence in Japan, alongside Japanese people, have been completely wiped clean from modern India’s memory.

大東亜戦争の結末として、連合軍は極東軍事裁判と称して日本を裁きました。そして、A級戦犯として、東條英機始め7人の日本人を処刑しました。(A級戦犯の罪状は平和を乱した罪というもので、如何なる人間にも当てはめられる性質の罪状なのです。しかし、それが極悪な人間に当てはまる罪であるかのように世間に思い込ませて永久に汚名をかぶせました。そして、未だに靖国神社を取りざたにして日本を誹謗中傷します。)(靖国は軍国主義とは異質なものです。靖らかな国、つまりおだやかな国なのです。)

बृहत् पूर्वी एशियाई युद्ध के समापन पर, अभिसंधित राष्ट्रों (मूलतः ब्रिटन और अमेरिका) ने जापान को दंड परोसने के उद्देश्य से एक बनावटी कचहरी कल्पित की, जिसे सुदूर पूर्वी निमित्त सैन्य न्यायाधिकरण नामित किया। उन्होंने एक शीर्षक बनाया, “क्लास ए क्रिमिनल (प्रथम श्रेणी का अपराधी)”, दुनिया को यह मिथ्या धारणा दी कि यह सबसे घिनौने हत्यारों की श्रेणी थी, और इस आधार पर ७ उच्च स्तर के उषापुत्रों को लटका दिया। यद्यपि “क्लास ए क्रिमिनल” की वास्तविक परिभाषा “शांति के विरोध में अपराध” करने वाला था (अर्थात् जिसे भी चाहो, उसे इस श्रेणी में ठूंस दिया जा सकता था)। लोग उषाद्वीप की निन्दा करते हैं, और यासुकुनी समाधिस्थल को जापानी सैन्यवादी विचारधारा का प्रतीक बताते हैं। (वास्तव में यासुकुनी समाधिस्थल का आक्रामकता से कोई संबंध नहीं। नाम ‘यासुकुनी’ का अर्थ है ‘शान्तिपूर्ण राष्ट्र’।)

At the conclusion of the Greater East Asia War, the Allied nations (basically Britain and America) dealt out punishment to Japan by creating a fake court, the International Military Tribunal for the Far East. They created a title, “Class A Criminal,” gave the world the false impression that this was a title assigned to the worst murderers, and hung 7 Japanese on this premise. The definition of a Class A Criminal is in fact, one who committed “a crime against peace.” (This means that practically anybody could be twisted to fit into this category.) People criticize Japan, using Yasukuni Shrine as a symbol of militarism. (In reality, Yasukuni Shrine has nothing at all to do with aggression. The name Yasukuni literally means “peaceful nation.”)

 日本とドイツは1940年に同盟を結びましたが、あくまでも戦略的理由によるものであってお互いの間には常に相容れないものがありました。ドイツの白人主義は非常に根強く、有色人種を見下していました。もちろん彼らは日本人をも見下していました。人種平等を重んじる日本はドイツの白人優越主義的人種偏見に対抗しました。樋口季一郎、松岡洋右、東條英機、板垣征四郎、犬塚惟茂、安江仙弘らは、ドイツの迫害から遁れ1938年にはソ連の難民拒否にあった2万人、1942年には3万人、計5万人のユダヤ人の命をナチスの迫害から救いました。このようなことはメディアに取り上げられることはなく、6千人のユダヤ人を救った杉山千畝の話だけを紹介しています。その話でさえも杉原千畝個人が日本政府に背いてユダヤ人を救ったというシナリオになっていて、日本政府や日本軍を非難する材料に使われています。東洋のインドを救おうとした日本人は、有色人種に偏見を持ちユダヤを迫害するドイツに真っ向から反目していまいた。インドを白人の手から助けようと努力する日本人の前に、白人優越主義者ヒットラーのインド人版が現れ、ヒットラーの敬称のサンスクリット語版ネタージーで呼ばれることを要求したのですから、当時の日本人有識者たちは眉をひそめたのも無理はありません。

जापान ने १९४० में जर्मनी के साथ सैन्य सन्धि किया था। बृहत्तर पूर्वी एशियाई सह-समृद्धि मण्डल के शीर्ष के रूप में अपनी स्वीकृति के लिये जापान को जर्मनी के समर्थन की आवश्यकता थी। अपितु उनके सन्धि की परिधि वहीं तक सीमीत थी। जर्मन गोरे वर्चस्ववादी थे और उषापुत्रों को हीन मानते थे। जापान सभी मनुष्य-जातियों के सामरस्य पर आग्रह करता था, और महायुद्ध के समय भी जापान ने जर्मन जातिवाद के विरोध कदम उठाया। हिगुचि कीचिरो, मात्सुओका योसुके, तोजो हिदेकि, इतागाकि सेइशिरो, इनुज़ुका कोरेशिगे, यासुए नोरिहिरो, इत्यादि ने सब मिलकर नाज़ी-वादियों के चंगुल से ५०,००० यहूदी प्राण बचाएं (१९३८ में २०,००० और १९४२ में ३०,०००)। वार्ता-माध्यमों में यब बात विरल ही बताया जाता है। परन्तु केवल ६००० यहूदियों को बचाने वाले सुगियुरा चियुने के बारे में बहुत चर्चा होती है, इस बात को लेकर कि इन्होंने इस मानवीय कार्य के लिये जापान सरकार का उल्लंघन किया, जबकि जापान सरकार के आदेशों का पालन करने वालों बहुतों में से वह केवल एक हि अपवाद थे।

जापानी लोग भारत को एशियाई देशों में से एक मानते थे। दूसरी ओर जापान अश्वेत जातियों और यहूदियों के बारे जर्मनी के गोरे जातिवादी नीतियों के विरोध में खड़ा था। सो जब कोकेशियाई-वर्चस्ववादी हिटलर का देशी अवतार, सुभाष चंद्र बोस, जापानी भूमि पधारे और उनके आज्ञाकारिता और सम्मान का अनुरोध करके स्वयं को “हमारा नेता” बुलवाने की अपेक्षा रखने लगे, तब उषाद्वीप के अभिजात वर्ग को कष्ट और असमंजस हुआ होगा।

Japan signed a military treaty in 1940 with Germany. Japan needed German support in order to be accepted as the leader of Greater East Asia Coprosperity Sphere. However, the extent of their alliance ended at that level. Germans were white supremacists and regarded Japanese as inferior. Japanese insisted on the racial equality of all the races, and even during the war, Japan fought against German racism. Higuchi Kiichirō, Matsuoka Yōsuke, Tōjō Hideki, Itagaki Seishirō, Inuzuka Koreshige, Yasue Norihiro, etc., saved a total of 50,000 Jewish lives (20,000 in 1938 and 30,000 in 1942) from the Nazis. This fact is hardly mentioned in the media. Sugiura Chiune who saved only 6,000 Jews are talked about to criticize Japan, emphasizing that for this humanitarian act he went against Japanese government, despite the fact that he was only one of many who followed the order of Japanese government.

         Japanese considered India as among Asian nations. On the other hand, Japan was against German racist policies against all colored races and the Jews. It must have been quite troublesome for educated Japanese to see Subhash Chandra Bose, an Indian version of Caucasian-supremacist Hitler, arriving on Japanese territory, demanding their obedience and respect, and expecting them to call him “Our Leader“.

東條英機が何をしたかというと、インド人達に日本がインド独立を完全援助すると約束したことと、戦時中、何万ものユダヤ人をソ連やヨーロッパから救い出したことです。つまり、一般人を無差別に大量虐殺する欧米に楯突いて、インド人や東アジア人やユダヤ人の命を救ったことが、欧米にとっては都合が悪いのです。ただ単に日本人を処刑する事によって、本当に極悪非道を尽くしているのはアメリカ、イギリス、ロシア、中国、そしてヨーロッパの国々であるのだということを忘れさせて人の心を惑わせているのです。

तोजो हिदेकी की सबसे बड़ी भूल यह थी कि उन्होंने खुल्लम खुल्ला यह घोषणा कर दी कि जापान भारत की स्वतंत्रता के लिये पूरा समर्थन और सहाय देगा, और जापान ने जर्मनी और दूसरे शक्तियों के विरोध में सहस्रों यहूदियों को यूरोप और रूस से उषाद्वीप के रस्ते से पलायन करने में सहायता की। अमेरिका और ब्रिटन को उसे अपराधी बुलाना हि पड़ा, क्योंकि उन्होंने उनके उद्देश्यों में बाधाएं डालीं, और क्योंकि उन्होंने भारतीय, पूर्वी एशियाई और यहूदी लोगों की प्राणों की रक्षा को प्राथमिकता दी। उषापुत्रों को लटकाने का यह उद्देश्य था कि विश्व के जनमानस को भ्रम में डाला जाये और वे भूलने लगे कि वास्तव में ब्रिटिन, यूरोप, रूस और अमेरिका हि वह शक्तियां हैं जो महान् अत्याचारी हैं और मानव जाति को दुःख पहुंचाते आ रहे हैं।

The biggest mistake that Tojo Hideki made was that he promised publicly that Japan would offer complete assistance to Indian independence, and that he went against Germany and other nations, helping tens of thousands of Jews escape from Russia and Europe, via Japan. America and Britain had to call him a criminal and execute him because he did not follow their agenda, and because he helped the lives of Indians, East Asians and Jews. By executing Japanese, they drove the world into confusion and forget that it was indeed British, Europeans, Russians and Americans who have been committing mass atrocities, and giving the human race misery.

何をどう信じようと、インド人の命を救ってくれた東條英機を、インド人が欧米のプロパガンダに振り回されてヒットラーと重ねて考えるのはよろしくありません。

आप जो भी माने या न माने, पाश्चात्य कुप्रचार की बातों में आकर भारतीयों का हिटलर और तोजो हिदेकी के छवियों को एक समान ठहराना एक बड़ी भूल है। तोजो हिदेकी ने कई भारतीय प्राणों को बचाया।

Whatever you believe, it is wrong for Indians to overlap the image of Tojo Hideki with that of Hitler, controlled by Western propaganda. Tojo Hideki indeed saved many Indian lives.

Tojo Hideki talking to Subhas Chandra Bose

アメリカとイギリスは日本を占領するや否や、インド人に協力した日印協会やラス・ビハリ・ボースを支援した玄洋社や黒竜会を解散させました。戦後生き残った在日インド人は欧米に従う者だけが取り立てられ、他は苦しい思いをしました。

उषाद्वीप का अधिग्रहण करने के तुरंत बाद ब्रिटन और अमेरिका ने निची-इन क्योकाय को बंद करवा दिया, जो कि भारत को आर्थिक सहाय पहुंचाने वाली एक जापानी संस्था थी, ओर उन्होंने गिन-यो-षा और कोकुर्यु-कोय को भी बंद करवा दिया, जो रास बिहारी बोस के समर्थक थे। जापान में बसे भारतीय स्वतंत्रता संग्रामियों मे से केवल उन लोगों से ठीक व्यवहार किया गया जिन्होंने ब्रिटन से पूर्णतः विश्वास नहीं तोड़ा था, और अन्य सारों को कड़ी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा।

As soon as America and Britain occupied Japan, they forced the closure of the Nichi-in Kyōkai, a Japanese organisation that helped the Indian economy, and also closed down Gen’yō-Sha and Kokuryū-kai, which supported Rash Behari Bose. Amongst the Indian freedom fighters in Japan, only those who were loyal to Britain were treated well, but others were all forced to suffer hardship.

1905年から1945年までの40年間、何千何万というインド人がインド独立を願って日本にやってきましたが、その数は迷宮入りです。日本側から調べれば調べられないことはないかも知れませんが、インド側からは無理です。なにせ、今のインドが1950年に建国する前の歴史なので、必要のない情報だからです。

१९०५ और १९४५ के बीच के ४० बरसों में दसों सहस्रों भारतीय स्वतंत्रता संग्रामी उषाद्वीप आ बसे, परन्तु उनका सही आकलन कोई कभी नहीं करेगा। इसके बारे में अधिक जानकारियां जापानी स्रोतों से मिल सकता है, परन्तु इंडिया में यह आकलन मिलना दुष्कर है क्योंकि वर्तमान इंडिया तो केवल १९५० में आरंभ हुआ, और ऐसा प्रतीत होता है कि उसके पहले की जानकारियां इस इंडिया के लिये कोई महत्व नहीं रखता, क्योंकि यह मात्र ७० बरस का है।

During the 40 years between 1905 and 1945, tens of thousands of Indian freedom fighters came and lived in Japan, but their actual number will never be looked into. One may be able to find this information from Japanese sources, but it is impossible to get that data in India, because the present India was started only in 1950, and any information before that year is not of any interest to the present India that is only 70 years old.

Rash Behari Bose with his son and daughter

1905年から1945年までの40年間に東京が火に包まれたことが二度あります。1923年には関東大震災がありました。そして、1942年から1945年にかけては度重なる大空襲でアメリカとイギリスに百万人もの住民が大量虐殺されました。命を落としたのは日本人ばかりではありません、その何千何万というインド独立の英雄達も日本で命を落としたのです。その数をはっきりさせることは今のインドには期待できませんが、調べようと思えば、ある程度はっきりした数が出るはずです。

१९०५ और १९४५ के बीच के ४० बरसों में तोक्यो दो बार नष्टप्राय हो चुका था। १९२३ में, कांतो का महाभूकंप और महानल की लपटों में कईयों ने प्राण त्यागे। पुनः, १९२४ और १९४५ के बीच, तोक्यो ने ब्रिटन और अमेरिका के हाथों १०६ कट-बमबारियां झेले। बीभत्स संख्या में निहत्थे नागकरिक मरे, अपितु गतासुओं में केवल उषापुत्र हि सम्मिलित नहीं थे। कृपया यह स्मार रखें कि दसों सहस्रों भारतीय स्वतंत्रता संग्रामी भी उनके साथ मारे गये। यह अपेक्षा नहीं की जा सकती कि वर्तमान इंडिया का सरकार इस कांड की जांच करेगा, परन्तु यदि शोधकर्ताओं ने जापान में सच्चे लगन से पड़ताल की तो एक विश्वसनीय आकलन का उभरना संभव है।

During 40 years between 1905 and 1945, Tokyo was almost completely ruined twice. In 1923, the earthquake and great fire of the Great Kanto Earthquake claimed many lives. Then, between 1924 and 1945, Tokyo suffered 106 carpet bombings by Britain and America. A horrendous number of civilian lives was lost, however, it was not only Japanese who were killed there. Please remember that tens of thousands of Indian Freedom fighters were killed along with them. The present Indian government cannot be expected to look into this, but if researchers put in honest effort in Japan, they should be able to come up with a reliable figure.

インド人は1923年の関東大震災と1943から1945年にかけての日本全土大空襲を日本の惨状としてのみ捉えるのではなく、抹消されたインド独立の志士の冥福を祈るのもよいことだと思います。そして、ラス・ビハリ・ボースの息子が合祀された靖国神社にも出向くのもいいと思います

मेरी मति में भारतवासियों को कांतो का महाभूकंप (१९२३) और ब्रिटन और अमेरिका द्वारा बड़े परिमाण पर किये गये उषाद्वीप की कट-बमबारी (१९४२-१९४५) को जापानी विपदाएं नहीं समझनी चाहिये, अपितु उनमें मारे गये भारतीय स्वतंत्रता संग्रामियों के लिये भी अपनी वन्दना जोड़नी चाहिये। इससे आगे, भारतीयों को शायद यासुकुनी समाधिस्थल के दर्शन भी करनी चाहिये, जहाँ रास बिहारी बोस का औरस पुत्र की समाधि भी है।

In my opinion, Indians should not take the Great Kanto Earthquake (1923) and massive carpet bombings of Japan by Britain and America (1942-1945) as Japanese disasters, but they must also pray for the Indian freedom fighters who lost their lives in Japan. Furthermore, Indians might want to visit Yasukuni Shrine where Rash Behari Bose’s very own son is enshrined.

多くのインド独立の志士たちが日本女性と結婚したのも事実です。そして、インド人の血をひいた日本人達も関東大震災や日本全土大空襲で亡くなったり、靖国神社に合祀されていたりしているのです。

मुझे ज्ञात है कि जापान में बसे कई भारतीय स्वतंत्रता संग्रीमियों ने उषापुत्रीयों को ब्याहा। इसके अतिरिक्त, इन महानलों में ऐसे कई उषापुत्र जल गये जिनकी रगों में भारतीय स्वतंत्रता संग्रामियों की लहू बहती थी, और ऐसे उषापुत्रों को तोक्यो-तो इरेइदो  (तोक्यो स्मारक सभागार) में आदर दिया गया है, जबकि अन्य वीर योद्धाओं को यासुकुनी समाधिस्थल पर पूजा जाता है।

I know that many Indian freedom fighters in Japan got married to Japanese ladies. Moreover, there are many Japanese with Indian freedom fighter’s blood who lost their lives during those great fires, and they are respected at the Tokyo-to Ireidō, whereas other brave fighters are worshiped at Yasukuni Shrine.

インド独立の志士であった在日インド人の資料は、公開することが難しくなっているのでお見せできませんが、インドの皆さんが求めれば手にすることが出来るものです。

मैं विश्वास के साथ नहीं कह सकती कि जापान में उस समय ठीक कितने भारतीय स्वतंत्रता संग्रामी मारे गये। परन्तु मूल लेखजात हर किसी के लिये अभिगम्य हैं, यदि कोई चाहे।

I cannot confidently reveal any information regarding Indian Freedom fighters who died in Japan at this time. However, anybody can obtain access to the original artifacts, if one so wishes.

インドの皆さんは東京を訪れたら、東京都墨田区横網町にある、東京都復興記念館と東京都慰霊堂を是非訪れてください。そして、関東大震災と東京大空襲で命を落としたインド独立の志士に思いを馳せ、手を合わせてください。そこに掲げてある写真の中にインド人が見いだせるはずです。

कृपया तोक्यो-तो फ़ुक्को स्मारक संग्रहालय और तोक्यो-तो इरेइदो के दर्शन करिये, जो सुमिदा विभाग में स्थित है, और उन भारतीय स्वतंत्रता संग्रामियों के लिये वन्दना करें जिनको उनके देशवासियों ने उपेक्षित किया है। कांतो के महाभूकंप आपदा की चित्रावली में आप कुछ देशी चहरों को लक्षित कर सकेंगे।

Please visit the Tokyo-to Fukko Memorial Museum and Tokyo-to Ireidō in Yokoami-cho, Sumida Ward, and pray for the Indian freedom fighters who have been neglected by their fellow Indian citizens. You will be able to spot some Indian people in the picture panel display for the Great Kanto Earthquake disaster.

東京都復興記念館

そして、靖国神社に合祀されているインド独立の志士とその家族にも手を合わせてくださいね。

कृपया यासुकुनी समाधिस्थल भी जाएं, यह मन में रखते हुए कि वहां भारतीय स्वतंत्रता संग्रामियों की आत्माओं को भी पूजा जाता है।

Please also go visit Yasukuni Shrine, keeping in mind that Indian freedom fighter’s spirits are also worshiped there.

靖国神社
Create your website with WordPress.com
Get started